Atm Card कितने प्रकार के होते है?

एटीएम कार्ड कितने प्रकार के होते है (ATM Card kitne Prakar Ke Hote Hai) आज के डिजिटल समय में सभी लोगों को अवश्य पता होनी चाहिए । जी हां दोस्तों आज-कल एटीएम कार्ड का इस्तेमाल अधिकांश लोग एटीएम मशीन से पैसे निकालने से लेकर आनलाईन वेबसाइट पर शापिंग और ऑफलाईन होटल, रेस्टोरेंट, पेट्रोल पंप इत्यादि जगहों पर स्वैप मशीन के जरिए बिल पेमेंट में यूज करते है परंतु एटीएम कार्ड कितने तरह के होते है कुछ ही लोग जानते है । यदि आप अपने लिए नया एटीएम कार्ड बनवाना चाहते है या एटीएम कार्ड का इस्तेमाल करते हुए भी ATM Card कितने प्रकार के होते है यदि आधा-अधूरा जानकारी प्राप्त है तो इस आर्टिकल को अवश्य पढ़ें, ताकि आपको एटीएम कार्ड को लेकर कोई कंफ्यूजन नही रहे, एवं खूद के फायदे अनुसार एटीएम कार्ड का चुनाव कर सके । चलिए अब बिना देर किए विस्तारपूर्वक जानने की कोशिश करते है एटीएम कार्ड क्या है? एटीएम कार्ड के क्या-क्या फायदें है? एटीएम कार्ड कितने प्रकार के होते है? और एटीएम कार्ड कैसे बनवाए जाते है?



एटीएम कार्ड कितने प्रकार के होते है?
एटीएम कार्ड कितने प्रकार के होते है?




ATM Card क्या है?


सबसे पहले ATM Card फुल फ़ॉर्म की बात किया जाए तो ATM Card का Full Form 'Automated Teller Machine Card' होता है, जो की एक प्रकार का प्लास्टिक कार्ड होता है, इस कार्ड पर कार्ड होल्डर का नाम, 16 डिजीट कार्ड नंबर, कार्ड एक्पाईरी डेट और इस कार्ड के पिछे सीवीवी नंबर अंकित होता है । एटीएम कार्ड बैंक अकाउंट से लिंक रहता है इसलिए कार्ड होल्डर अपने बैंक अकाउंट को एक्सेस कर सकता है, यानि आज के दौर में एटीएम कार्ड बैंकिंग लेन-देन को सरल बना दिया है ।



ATM Card के फायदे


1. एटीएम कार्ड के इस्तेमाल से एटीएम मशीन से नगद राशि निकाला और नगद राशि जमा किया जा सकता है ।


2 आनलाईन ख़रीदारी में या ऑफलाईन स्वैप के जरिए एटीएम कार्ड से बिल पेमेंट किया जा सकता है ।


3. एटीएम कार्ड के इस्तेमाल से किसी भी वक्त देश या विदेशों में पैसे निकालें जा सकते है ।


4. कार्ड होल्डर को कही भी जाने के क्रम में नगद कैस लेकर चलने की आवश्यकता नही होती, केवल उनके बैंक अकाउंट में पैसे और साथ में एटीएम होना जरूरी है ।


5. एटीएम कार्ड की मदद से इंटरनेट बैंकिंग या मोबाइल बैंकिंग शुरू करने के उपरांत बैंक अकाउंट को एक्सेस और पैसों का आदान-प्रदान करने के साथ-साथ विभिन्न प्रकार के बैंकिंग सुविधाओ का लाभ लिया जा सकता है ।




Atm Card कितने प्रकार के होते हैं?


अब यदि एटीएम कार्ड के प्रकार (ATM Card Ke Prakar) की बात किया जाए तो भारत में मौजूद सभी बैंक अपने ग्राहकों के लिये दो प्रकार के कार्ड जारी करता है, पहला डेबिट कार्ड (Debit Card) और दूसरा क्रेडिट कार्ड (Credit Card), परंतु यहाँ पर याद रखने की जरूरत है डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड इन दोनों कार्ड के उपयोग से एटीएम मशीन से पैसे निकाले जाते है इसलिए अधिकांश लोग इन दोनों कार्ड को एटीएम कार्ड ही बोलते है । आइये डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड क्या है तथा डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड कितने प्रकार के होते है विस्तार से जानने की कोशिश करते है-



1. Debit Card क्या हैं?


बैंक की ओर से ग्राहकों के बैंक अकाउंट के लिए डेबिट कार्ड जारी किए जाते है जिसपर कार्ड होल्डर का नाम, 16 डिजीट कार्ड नंबर, एक्पाईरी डेट, सीवीवी नंबर और DEBIT का Logo लगा होता है और यह कार्ड बैंक अकाउंट से लिंक होता है इसलिए कार्ड होल्डर अपने बैंक अकाउंट का पैसा खर्च करने के लिए स्वतंत्र होता है । अब सिधे मुद्दे पर चर्चा किया जाए तो बैंकों द्वारा कई प्रकार के पेमेंट नेटवर्क वाला डेबिट कार्ड जारी किए जाते है, इसलिए नये लोगों को डेबिट कार्ड कितने प्रकार के होते है उनके लिए जानना बेहद जरूरी है । चलिए नीचे डेबिट कार्ड के प्रकार के बारें में जानते है- 


  • रूपए डेबिट कार्ड (Rupay Debit Card)


रूपय कार्ड भारतीय पेमेंट नेटवर्क नेशनल पेमेंट कार्पोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) के प्रोडक्ट है और इन्ही के देखरेख में पेमेंट प्रोसेसिंग पुरा किया जाता है एवं बैंक अपने ग्राहकों को रूपए डेबिट कार्ड इस्तेमाल करने की पेशकश करते है, क्योंकि रूपए कार्ड स्वदेशी पेमेंट नेटवर्क पर कार्य करता है इसलिए रूपए कार्ड धारकों को सालाना मामूली फिस बैंक को देना परता है । रूपए डेबिट कार्ड के इस्तेमाल से एटीएम मशीन से कैस निकासी और कैस जमा के साथ-साथ भारतीय वेबसाइट पर खरीदारी में पेमेंट और स्वैप मशीन के जरिए बिल पेमेंट किया जा सकता है । 


  • वीज़ा डेबिट कार्ड (Visa Debit Card)


बैंकों द्वारा दिये जाने वाला वीज़ा डेबिट कार्ड का पेमेंट नेटवर्क एक अमेरिका की फाइनेंस मल्टी नेशनल कंपनी है, वीज़ा डेबिट कार्ड भारत में सबसे अधिक पसंद किये जाते है, क्योंकि वीज़ा डेबिट कार्ड का इस्तेमाल देश विदेश सभी कही भी किसी भी एटीएम मशीन से नगद निकासी, इंटरनेशनल वेबसाइट पर खरीदारी में पेमेंट और होटल, रेस्टोरेंट, पेट्रोल पंप इत्यादि जगहों पर स्वैप के जरिए बिल का भुगतान किया जा सकता है, लेकिन इस कार्ड के लिए बैंक अपने ग्राहकों से सालाना कुछ ज्यादा शुल्क वसूल करता है ।


  • मास्टर डेबिट कार्ड (Master Debit Card)


मास्टर कार्ड का पेमेंट नेटवर्क भी एक अमेरिकी कंपनी है और यह कार्ड भी वीज़ा कार्ड की तरह पुरी दूनिया में मान्य है तथा मास्टर पेमेंट नेटवर्क एक सुरक्षित पेमेंट गेटवे माना जाता है । वीज़ा कार्ड की तरह मास्टर कार्ड के उपयोग से इंटरनेशनल स्तर पर एटीएम मशीन से कैस निकासी, स्वैप के जरिए बिल पेमेंट और आनलाईन वेबसाइट पर किसी भी चीज की खरीदारी में भुगतान किये जा सकते है । मास्टर कार्ड इंटरनेशनल कार्ड है, इसलिए इस कार्ड के इस्तेमाल पर भी लगभग वीज़ा कार्ड के समान चार्ज किया जाता है ।


  • मैस्ट्रो डेबिट कार्ड (Maestro Debit Card)


वीज़ा और मास्टर कार्ड की भांति मैस्ट्रो कार्ड का पेमेंट नेटवर्क भी विदेशी कंपनी है, इसलिए यह कार्ड भी देश विदेश सभी जगह मान्य है, इसलिए मैस्ट्रो कार्ड के जरिए भी देश विदेश कोई भी एटीएम मशीन से कैस निकासी, स्वैप के जरिए बिल पेमेंट तथा आनलाईन नेशनल इंटरनेशनल वेबसाइट पर शापिंग में भुगतान किये जा सकते है ।




2. Credit Card क्या हैं?


क्रेडिट कार्ड दिखने में बिल्कुल डेबिट कार्ड की तरह ही होता है एवं क्रेडिट कार्ड का उपयोग भी डेबिट कार्ड की तरह ही किया जाता है, परंतु यह कार्ड सभी लोगों के पास नही होता है कुछ गिने-चुने लोगों के ही पास होता है, क्योकि बैंक यह कार्ड व्यक्ति के इनकॉम के आधार पर जारी करता है । यानि संपष्ट रूप में बात किया जाए तो बैंक व्यक्ति के इनकॉम के आधार पर क्रेडिट कार्ड के द्वारा पैसे खर्च करने की एक लिमिट निर्धारित कर देता है, जिसके बाद कार्ड धारक उस रकम को खर्च करने और उसका बिल चुकता करता है, अगर समय पर बिल ना चुकाया जाता है तो बैंक क्रेडिट कार्ड धारक से खर्च किए गए रकम पर ब्याॅज वसूल करता है । बैंक की ओर से अपने ग्राहकों को डेबिट कार्ड की तरह कई प्रकार के पेमेंट नेटवर्क वाला क्रेडिट कार्ड उपलब्ध कराती है ।


Credit Card कितने प्रकार के होते है?


जिस तरह बैंक की ओर से खाताधारकों को रूपए, वीज़ा, मास्टर, मैस्ट्रो पेमेंट नेटवर्क वाला डेबिट कार्ड उपलब्ध कराती है, ठिक उसी प्रकार बैंक की तरफ से क्रेडिट कार्ड अप्लाई कर्ता को रूपए क्रेडिट कार्ड, वीज़ा क्रेडिट कार्ड, मास्टर क्रेडिट कार्ड, मैस्ट्रो क्रेडिट कार्ड जारी करता है ।



डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड में क्या अंतर है?


बैंक की ओर से डेबिट कार्ड बचत खाता (Savings Account) और चालू खाता (Current Account) धारकों के लिए जारी करता है, जबकि क्रेडिट कार्ड व्यक्ति के इनकॉम के आधार पर उपलब्ध कराया जाता है ।


डेबिट कार्ड बैंक अकाउंट से लिंक होता है, डेबिट कार्ड धारक चाहें तो अपने बैंक अकाउंट का सारा पैसा खर्च कर सकता है, जबकि क्रेडिट कार्ड बैंक अकाउंट से लिंक नही होता है इसमें एक लिमिट निर्धारित होती है, इसलिए निर्धारित रकम से ज्यादा खर्च नही किया जा सकता है ।


डेबिट कार्ड धारक डेबिट कार्ड के इस्तेमाल से अपना बैंक अकाउंट का पैसा खर्च करता है इसलिए बैंक को किसी भी प्रकार का ब्याज नही देना होता है, जबकि क्रेडिट कार्ड धारक बैंक द्वारा तय रकम यानि बैंक का पैसा खर्च करता है इसलिए समय पर बिल का भुगतान ना करने के स्थिति में बैंक खर्च किये गये रकम पर ब्याज वसूल करता  है ।



ये भी जानिए:-



बैंक चेक कितने प्रकार के होते है?

भारत में कितने प्रकार के बैंक मौजूद है?

टैक्स क्या है कितने प्रकार के होते है?

पीएफ खाता कितने प्रकार के होते है?

पासबुक और चेक बुक में क्या अंतर है?

जीएसटी क्या है कितने प्रकार के होते है?

बैंक अकाउंट कितने प्रकार के होते है?

सेविंग अकाउंट कितने प्रकार के होते है?

बचत और चालू खाता में क्या अंतर है?

ईपीएफ और पीपीएफ में क्या अंतर है?

पीएफ और ईपीएफ खाता में क्या अंतर है?

2 Comments

Post a Comment

Previous Post Next Post