बचत खाता किसे कहते हैं (What Is Savings Account)

बचत खाता किसे कहते हैं (What Is A Savings Account) जानने आये है तो आपका स्वागत है, दोस्तों जैसा की आपको पता होगा आजकल लोग घरो में पैसा रखने के बजाय बैंक में रखना पसंद करने लगे है क्योंकि बैंक में पैसा सुरक्षित भी रहता है और उनके जमा धन पर अच्छा खासा ब्याज भी मिल जाता है लेकिन बैंक में पैसे जमा कराने के लिए व्यक्ति को खाता खुलवाना परता है, जी हाँ अगर आप पहली बार बैंक में खाता ओपेन कराने जाएंगे तो बैंक की ओर से एक फॉर्म दिया जाता है जिसमें खाता के प्रकार यानि बचत खाता (Saving Account) या चालू खाता (Current Account) का चुनाव करना होता है । यहाँ पर संक्षेप में बैंक खाता ओपेन कराने की बात किया जाए तो अधिकांश आम लोग बचत खाता (Saving Account) ही खुलवाते है, यदि आपको नही पता बचत खाता क्या होता है यानि Bachat Khata Kise Kahte Hai? तो पूरी आर्टिकल अवश्य पढ़िए-



बचत खाता किसे कहते हैं (What Is Savings Account)
बचत खाता किसे कहते हैं (What Is Savings Account)


बचत खाता किसे कहते हैं (What Is A Savings Account)


बचत खाता (सेविंग अकाउंट) आम लोगों के फायदे वाला एक प्रकार का ऐसा बैंक खाता होता है जिसमें व्यक्ति थोड़ा-थोड़ा पैसे जमा करने के उपरांत अपने जमा रकम पर बैंक द्वारा दिये जाने वाला क्रमश 4% से 5% तक ब्याज का लाभ उठा सकता है । सभी बैंकों द्वारा सबसे ज्यादा बचत खाता (सेविंग अकाउंट) ओपेन किये जाते है यह खाता खासकर आम नागरिक ओपेन कराते है ताकि घरेलु खर्च के बाद बचे हुए पैसे अपने खाता में जमा कराया जा सके, जो की बैंक में उनका धन बिल्कुल सुरक्षित भी रहता है ।



बचत खाता खोलने के लिए जरूरी डोकोमेन्ट्स (Documents Required To Open A Savings Account)


1. नवीनतम फोटो (Latest Photo)

2. आधार कार्ड (Aadhar Card)

3. पेन कार्ड (Pen Card)


(नोट:- एड्रेस प्रूफ के स्थान पर आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, इंडियन पासपोर्ट इनमें से कोई एक कार्ड का प्रतिछाया और पेन कार्ड का प्रतिछाया के साथ में बैंक फॉर्म भरने के उपरांत देना अनिवार्य होता है)



बचत खाता के फायदे (Benefits Of Savings Account)


प्रत्येक सरकारी या प्राइवेट बैंक एक आम आदमी को बचत खाता ओपेन कराने की सलाह देता है क्योंकि इस खातें में सामान्य आदमी अपनी घरेलू खर्च के बाद बचे हुए पैसे को जमा करा सकता है और अपने जमा रकम पर क्रमश 5% तक का सालाना ब्याॅज प्राप्त कर सकता है ।


प्रत्येक सरकारी और प्राइवेट बैंक बचत खाताधारकों को चेकबुक, डेबिट कार्ड की फैसिलिट देता है, चेक के जरिए किसी भी व्यक्ति को पैसे दिया जा सकता है और डेबिट कार्ड के उपयोग से एटीएम मशीन से कैस निकासी, आनलाईन शापिंग में बिल पेमेंट, स्वैप मशीन के जरिए बिल पेमेंट एवं इत्यादि में इस्तेमाल किया जा सकता है ।


प्रत्येक बचत खाताधारकों को बैंक की ओर से मोबाइल बैंकिंग, नेटबैकिंग जैसी सुविधाए उपलब्ध करायी जाती है जिसके इस्तेमाल से खाताधारक अपने खाते का विवरण देखने के साथ-साथ इसके इस्तेमाल से पैसे का आदान-प्रदान या विभिन्न प्रकार के खाते से संबंधित कामो को कर सकता है ।



बचत खाता के नुकसान (Disadvantages Of Savings Account)


बचत खाता ओपेन के लिए बैंक क्रमश: 500 से 50000 तक का न्यूनतम राशि जमा कराती है जो की खाताधारक के अकाउंट में ही जमा हो जाता है और यह न्यूनतम राशि बैंक के नियमानुसार अकाउंट में बनाये रखना आवश्यक होता है वरणा बैंक जुर्माना वसूल करता है । आजकल कुछ बैंक प्रधानमंत्री योजना के तहत जीरो बैलेंस अकाउंट खोल देता है जिसमें न्यूनतम राशि बनायें रखने की शर्ते बिल्कुल नही होती है ।


अधिकांश बैंक बचत खाता में प्रतिदिन क्रमश 5 फ्री जमा और निकासी करने की छूट देती है इससे अधिक बार जमा और निकासी पर बैंक कुछ सामान्य शुल्क वसूल करता है, ठिक इसी प्रकार एटीएम मशीन से डेबिट कार्ड द्वारा कैस निकासी या नेटबैकिंग और मोबाइल बैंकिंग द्वारा पैसे की आदान-प्रदान पर भी शुल्क वसूला जाता है ।




ये भी जानिए:-


चालू खाता क्या होता है?

आरडी खाता क्या होता है?

एफडी खाता क्या होता है?

सेविंग अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं?

बैंक में कितने प्रकार के खाता खोलें जाते है?

भारत में कितने प्रकार के बैंक मौजूद है?

सेविंग और करंट अकाउंट में क्या अंतर है?

एफडी और आरडी खाता में क्या अंतर है?

Post a Comment

Previous Post Next Post