बैंक एफडी खाता क्या होता है?

भारतीय बैंक द्वारा कई तरह के खाते खोले जाते है इन्ही मे से एक एफडी खाता क्या होता है इस खाते के विषय मे भी जानना बेहद जरूरी है क्योंकि अन्य खाते के मुक़ाबले एफडी खाताधारक को सबसे ज़्यादा ब्याॅज सभी भारतीय बैंको द्वारा दी जाती है ऐसे तो कम उम्र से लेकर सिनिअर्स सिटीजन इस खाते को ओपेन कराते है दोनो उम्र वाले लोगो को समानांतर ब्याज दिया जाता है लेकिन कम उम्र वाले लोगो के अपेक्षा सिनिअर्स सिटीजन वाले लोगो को एफडी अकाउंट मे जमा रूपए पर कुछ ज्यादा ही ब्याॅज का लाभ दिया जाता है आजकल बैंको द्वारा एफडी अकाउंट ओपेन कराने के लिए जोरो शोरो से विज्ञापन भी चलाये जा रहे है इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को अवश्य एफडी खाते की जानकारी होनी चाहिए यदि आप नही जानते एफडी अकाउंट क्या होता है तो बने रहे हमारे साथ और आप भी एफडी अकाउंट से जुड़ी हरेक चीज को जानिए दोस्तो एफडी अकाउंट की बात किया जाए तो इसे फिक्स डिपॉजिट अकाउंट कहा जाता है जिसे हिंदी मे सावधि जमा खाता भी कहते है चलिए अब बिना टाईम गवाए विस्तार से जानते है फिक्स डिपोजिट अकाउंट यानि सावधि जमा खाता क्या होता है!


बैंक एफडी खाता क्या होता है?
बैंक एफडी खाता क्या होता है?



ये भी पढे- बचत खाता क्या होता है?

ये भी पढे- चालू खाता क्या होता है?


फिक्स डिपॉजिट अकाउंट क्या होता है?


इस अकाउंट के तहत कोई भी व्यक्ति अपना एक फिक्स रकम एक निश्चित समय के लिए छोड़ सकता है जिसके लिए बैंक द्वारा सामान्य खाते मे ज़मा रकम के मुक़ाबले फिक्स डिपोजिट अकाउंट मे जमा रूपए पर ज़्यादा ब्याज देती है अगर भारतीय बैंक मे सामान्य खाते मे ज़मा रूपय पर ब्याज देने की बात किया जाए तो लगभग 3%-4% तक ब्याॅज देते है मगर वही दूसरी तरफ फिक्स डिपोजिट अकाउंट मे ज़मा रूपय पर 7%-8% तक का ब्याॅज दिया जा रहा है!


एफडी कितने साल की होती है?


सात दिन से लेकर दस साल तक का एफडी होता है अपने फिक्स रकम पर ज्यादा से ज्यादा ब्याॅज पाने के लिए ज्यादा समय तक छोड़ देना फायदेमंद होता है!


फिक्स डिपॉजिट पर कितना ब्याॅज मिलता है?


सभी बैंक फिक्स डिपोजिट पर अलग अलग ब्याॅज देती है लेकिन अधिकांश बैंक क्रमश 7-8% सालाना ब्याॅज देती है एक बात ये भी याद रखनी चाहिए अगर ब्याॅज की बात किया जाए तो बैंक, व्यक्ति की उम्र, निवेश और कितने समय के लिए डिपोजिट कराया जाता है इसके आधार पर भी ब्याॅज दिया जाता है लेकिन किसी भी व्यक्ति को अपने रकम को फिक्स डिपोजिट कराने से पहले बैंक के वेबसाइट या बैंक ब्रांच मे अवश्य ब्याॅज दरे की जानकारी प्राप्त कर लेना चाहिए!


फिक्स डिपॉजिट के लिए आवेदन कैसे करे


पहला तरीक़ा बहुत आसान है खूद से इंटरनेट बैंकिंग या मोबाईल बैंकिंग के जरिए अपने सेविंग अकाउंट को एक्सेस करते हुए एफडी खाता ओपेन करने के विकल्प मिल जाते है एफडी खाता ओपेन किया जा सकता है दूसरा तरीक़ा डोकोमेन्ट्स के साथ सिधे बैंक ब्रांच मे जाकर आवेदन किया जाता है!


एफडी के फायदे


  • एक निश्चित रकम निश्चित समय के लिए एक बार ही जमा करना होता है बार-बार जमा करने की कोई जरूरत नही होती!


  • अन्य खाता मे जमा रूपए से अधिक एफडी खाता मे जमा रूपए पर भारतीय बैंको द्वारा ब्याज दिया जाता है!


  • अचानक रूपए की जरूरत परने पर एफडी खाते पर Loan लिया जा सकता है!


  • एफडी कराते समय बताये गये ब्याज दर ही एफडी का समय पूरा होने पर जोड़कर दिया जाता है!


एफडी के नुकसान


  • फिक्स रकम समय से पहले निकालने के स्थिति मे जमा करते समय बताये गये ब्याॅज दर उस हिसाब से जोड़कर नही मिलता है समय से पूर्व एफडी तोड़ने पर बैंक पेनाल्टी लगाती है मान के चलिए फिक्स कराते समय 7% ब्याॅज देने की तय हुआ हो समय से पहले निकालने पर 7% से नीचे घटाकर ब्याॅज दिया जाता है!

Post a Comment

Previous Post Next Post