सेविंग और करंट अकाउंट मे क्या अंतर है?

सेविंग और करंट अकाउंट मे क्या अंतर है जी हाँ दोस्तो भारत मे सरकारी प्राइवेट अनेक बैंक है आपको याद रखना चाहिए जितना बैंक है उतने प्रकार के बैंक द्वारा खाता भी खोले जाते है हम यहाँ पर बात करने जा रहे है सेविंग और करंट अकाउंट के विषय पर यदि आप जानना चाहते है तो संपूर्ण आर्टिकल को अवश्य पढ़े तभी आप समझ पाएंगे और खूद के लिए सही अकाउंट का चुनाव कर सकेंगे चलिए अब मुद्दे पर बात करते है और आपके समक्ष सारी बाते विस्तार से बताने की कोशिश करते है सेविंग और करंट अकाउंट क्या होता है तथा सेविंग और करंट अकाउंट मे क्या फर्क है!


सेविंग और करंट अकाउंट मे क्या अंतर है?
सेविंग और करंट अकाउंट मे क्या अंतर है?


ये भी पढे- बैंक खाता कितने प्रकार के होते है?
ये भी पढे- एटीएम कार्ड कितने प्रकार के होते है?


सेविंग अकाउंट क्या होता है?


सेविंग अकाउंट जिसे बचत खाता भी कहा जाता है सेविंग अकाउंट खासकर आम आदमी ओपेन कराते है ताकि थोड़े-थोड़े पैसा बचा कर इस खाते मे जमा कर सके और जरूरत परने पर निकाल सके, सेविंग अकाउंट मे जमा रूपए पर क्रमश 3-4% सालाना बैंक की तरफ से ब्याज दिया जाता है!


करंट अकाउंट क्या होता है?


करंट अकाउंट जिसे चालू खाता भी कहा जाता है इस खाते को खासकर बिजनेसमैन, छोटे-बड़े संस्था कंपनी वाले ओपेन कराते है इस खाते मे जब चाहे उतना रूपए डाल और निकाल सकते है, चालू खाते मे जमा रूपए पर बैंक की तरफ से ब्याज नही दिया जाता है!


सेविंग और करंट अकाउंट मे अंतर क्या है जानिए


  • सेविंग अकाउंट आम लोगो के लिए बनाया गया है छोटी-छोटी राशि खाते मे जमा कर सके तथा जमा किये गये रकम पर ब्याज मिल सके और जरूरत परने पर जरूरत के हिसाब से पैसे निकाल सके दूसरी तरफ करंट अकाउंट की बात किया जाए तो यह खाता खासकर व्ययपारियो के लिए होता है जिससे की बड़े पैमाने पर खाते मे राशि जमा कर सके और निकाल सके!


  • सेविंग अकाउंट मे जमा रूपए पर बैंक की तरफ से ब्याज दिया जाता है जबकी करंट अकाउंट वालो को बैंक की तरफ से बिल्कुल ब्याज नही मिलता है!


  • अकाउंट को बनाये रखने के लिए अकाउंट मे बैलेंस बनाये रखना अनिवार्य है सेविंग अकाउंट की बात करे तो इस अकाउंट को बनाये रखने के लिए न्यूनतम राशि अकाउंट मे रखना होता है जबकि करंट अकाउंट को बनाये रखने के लिए न्यूनतम राशि से कुछ ज्यादा ही अकाउंट मे रखना होता है!


  • सेविंग अकाउंट मे पैसे निकालने से लेकर जमा करने पर लिमिटेशन होती है परंतु करंट अकाउंट मे ऐसा बिल्कुल नही होता अनगिनत बार जितना चाहे निकाल और बाहर कर सकते है!


  • करंट अकाउंट मे ऑभरड्राप्ट की सुविधा मिलती है इसका मतलब होता है अकाउंट मे जितना पैसा है उससे ज्यादा भी निकाल सकते है मगर यह फैसिलिटी सेविंग अकाउंट वालो को नही मिलती सेविंग अकाउंट मे जितना पैसा है उतना ही निकाल सकते है!


नोट- दोस्तो शायद आप समझ गये होंगे बचत और चालू खाता मे क्या अंतर होता है मतलब सेविंग और करंट अकाउंट मे क्या अंतर है आपके लिए कौन से खाता बेहतर होगा!

Post a Comment

Previous Post Next Post