चालू खाता और बचत खाता में क्या अंतर है (Difference Between Current Account And Saving Account)

चालू खाता और बचत खाता में क्या अंतर है (Difference Between Current Account And Saving Account In Hindi) जानने आयें है तो आपका स्वागत है, दोस्तों जब आप किसी बैंक में अपना नया खाता खुलवाने जाएगें तो बैंक आपको एक न्यू अकाउंट ओपनिंग फाॅर्म देता है जिसमें खाता के प्रकार यानि बचत खाता (Saving Account) या चालू खाता (Current Account) इनमें से एक को चुनना होता है परंतु यहाँ पर अधिकांश लोग कंफ्यूज जाते है और सोचने लगते है, बचत खाता किसे कहते हैं और चालू खाता किसे कहते हैं मैनें इसपर विस्तार से जानकारी दे चुका हूँ यदि आप नही पढें है तो अवश्य पढें, क्योंकि इस आर्टिकल में हम बात करने जा रहे है Chalu Khata Aur Bachat Khata Me Kya Antar Hai?



चालू खाता और बचत खाता में क्या अंतर है (Difference Between Current Account And Saving Account)
चालू खाता और बचत खाता में क्या अंतर है (Difference Between Current Account And Saving Account)




बचत खाता और चालू खाता में अंतर (Difference Between Saving Account And Current Account In Hindi)



बचत खाता एक प्रकार का ऐसा बैंक अकाउंट होता है जिसे कोई भी सामान्य आम नागरिक ओपेन कराने के लिए स्वतंत्र है, जबकि बैंक द्वारा चालू खाता खास व्यक्तियों, उद्यमियों और विभिन्न प्रकार के संस्थाओ के लिए ओपेन किये जाते है ।


बचत खाता में जमा धन पर प्रत्येक बैंक क्रमश: 4% से 5% तक का ब्याॅज देता है, जबकि चालू खाता में जमा धन पर ब्याॅज नही दिया जाता, हालांकि वर्तमान में कुछ गिने-चुने बैंक चालू खाताधारकों को ब्याॅज जैसी लाभ देने लगे है ।


प्रत्येक बैंक के नियमानुसार बचत खाता में न्यूनतम बैलेंस क्रमशः 500 से लेकर 5000 तक का बनाये रखना अनिवार्य होता है, जबकि यही नियम चालू खाता पर क्रमश: 5000 और इससे अधिक लागू होता है । तथा प्रधानमंत्री योजना के तहत ओपेन कराये गये बचत खाता में न्यूनतम बैलेंस बनाए रखने की कोई शर्ते नही है ।


बचत खाताधारक प्रतिदिन अपने खाते से क्रमश: पांच लेन-देन कर सकते है इससे अतिरिक्त लेनदेन करने के स्थिति में बैंक छोटी सी शुल्क वसूल करता है, जबकि चालू खाताधारक प्रतिदिन जितना चाहें उतनी बार जमा और निकासी कर सकते है इसके लिए अतिरिक्त चार्ज नही देना पड़ता है । 


बैंक की ओर से चालू खाताधारकों को ऑभरड्राप्ट (Overdraft) की सुविधा प्रदान की जाती है इसके तहत चालू खाताधारक अपने अकाउंट में जमा धन से अधिक निकासी कर सकता है, जबकि बचत खाताधारकों को ऐसी फैसिलिटी नही दी जाती है ।


चालू और बचत दोनों खाताधारकों को डेबिट कार्ड, चेकबुक, नेटबैकिंग जैसी सुविधाए उपलब्ध करायी जाती है परंतू बचत खाताधारकों को कई प्रकार के लिमिटेशन होती है, जबकि चालू खाताधारकों को किसी तरह का लिमिटेशन का सामना नही करना पड़ता है ।


कारोबारियों को बिजनेस या कर्मचारियों को पैसे देने के लिए कभी भी किसी भी वक्त बार-बार पैसे जमा और निकासी के लिए जरूरत पड़ती है इसलिए इनके लिए चालू खाता ओपेन कराना फायदेमंद होता है, क्योंकि चालू खाता में जमा निकासी पर लिमिटेशन नही होता है, दूसरी ओर बचत खाता खासकर सामान्य लोगों के लिए बेहतर होता है क्योंकि ऐसे लोग घरेलु खर्च के बाद कुछ पैसा बचत यानि बैंक में जमा और अपने जमा धन पर ब्याॅज प्राप्त करना चाहते है ।



ये भी पढ़िए:-


बचत खाता किसे कहते हैं?

चालू खाता किसे कहते हैं?

एफडी खाता क्या होता है?

आरडी खाता क्या होता है?

चेक कितने प्रकार के होते है?

पासबुक और चेकबुक में क्या अंतर है?

सेविंग अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं?

बैंक में कितने प्रकार के खाता खोलें जाते है?

बैंक कितने प्रकार के राशि स्वीकार करता है?

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post