GST क्या है और कितने प्रकार के होता है?

GST क्या है और कितने प्रकार के होता है? - भारत में टैक्स व्यवस्था को सुधारने के लिए BJP सरकार द्वारा एक देश एक टैक्स का नाम देते हुए 1 जुलाई 2017 में GST की शुरुआत किया था और आज के समय में "जीएसटी" एक प्रचलित शब्द बन गया है । अब सरकार GST के जरिए गरीब अमीर प्रत्येक व्यक्ति से टैक्स वसूल कर रही है । जीएसटी की बात किया जाए तो यह शब्द सभी लोग सुन रखे होते है फिर भी अधिकांश लोगो को GST के बारें में ज्यादा जानकारी नही होती है अगर आपको भी नही पता तो आईये इस आर्टिकल में विस्तार से जानते है GST क्या है? GST का फुलफॉर्म क्या होता है? और GST के कितने प्रकार हैं?



GST क्या है और कितने प्रकार के होता है?
GST क्या है और कितने प्रकार के होता है?




ये भी पढें - भारत में सबसे पुराना बैंक कौन सा है?

ये भी पढें - भारत का सबसे बड़ा बैंक कौन सा है?




GST का फुलफॉर्म क्या होता है?


GST Full Form In English- "Good And Services Tax" और जीएसटी फुलफॉर्म इंन हिंदी- "वस्तु एवं सेवा कर" होता है ।



जीएसटी क्या है - GST Kya Hai?


What Is GST In Hindi - जीएसटी भारत सरकार द्वारा वस्तुओ एवं सेवाओ पर लगाये जाने वाला अप्रत्यक्ष कर (Indirect Tax) व्यवस्था है । कुछ वर्ष पहले वस्तुओ और सेवाओ पर अप्रत्यक्ष कर (Indirect Tax) के रूप में सीमा कर, उत्पाद कर, सर्विस कर, बिक्री कर, वैट कर जैसे 17 टैक्स जोड़े जाते थे । लेकिन 1 जुलाई 2017 में पुराने अप्रत्यक्ष कर की लम्बी लिस्ट को हटाकर सरकार द्वारा पुर्ण रूप से GST (गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स) लागू कर दिया और अब सरकार GST के माध्यम से अप्रत्यक्ष कर (Indirect Tax) लेती है । जीएसटी के बारें में समझा जाए तो पहले जिस तरह से वस्तुओ और सेवाओ पर 17 प्रकार के अप्रत्यक्ष कर देने होते थे अब जीएसटी के जरिए एक कर (Single Tax) देना होगा क्योंकि सरकार ने पुराने अप्रत्यक्ष करो की लम्बी लिस्ट GST में समाहित करते हुए GST यानी अप्रत्यक्ष कर (Single Tax) व्यवस्था को लागू करने के उपरांत इसे "एक देश एक टैक्स" का नाम दिया है ।



जीएसटी के प्रकार - Types Of GST In Hindi


शायद आप समझ गए होगें GST का पूरा नाम है Good And Services Tax और इसे हिंदी में "वस्तु एवं सेवा कर" बोला जाता है । अब आईये नीचे जानते है जीएसटी कितने प्रकार के होते हैं:-


  • CGST (केन्द्रीय वस्तु एवं सेवा कर)
  • SGST (राज्य वस्तु एवं सेवा कर)
  • IGST (एकीकृत वस्तु एवं सेवा कर)
  • UTGST (केन्द्र शासित प्रदेश वस्तु एवं सेवा कर)



CGST क्या है - What Is CGST In Hindi


CGST का पूरा नाम Central Goods And Services Tax होता है जिसे हिंदी में "केन्द्रीय वस्तु एवं सेवा कर" कहा जाता है मतलब CGST केन्द्र सरकार का हिस्सा होता है । किसी भी राज्य या केन्द्र शासित प्रदेश में वस्तुओ एवं सेवाओ पर GST भारत सरकार द्वारा लगाया जाता है और कुल GST रकम से अपना आधा हिस्सा CGST के रूप में लेने के उपरांत बचा हुआ आधा हिस्सा राज्य सरकार को दे देता है यानि कि कुल GST में केन्द्र और राज्य सरकार का आधा आधा हिस्सा होता है । CGST कि बात करें तो यह पूरे भारत के सभी राज्य और केन्द्र शासित प्रदेश में लागु है ।


SGST क्या है - What Is SGST In Hindi


SGST का पूरा नाम State Goods And Service Tax होता है इसे हिंदी में "राज्य वस्तु एवं सेवा कर भी कहा जाता है । SGST का मतलब राज्य सरकार का हिस्सा होता है । यदि किसी एक राज्य में उत्पादित किया गया वस्तु उसी राज्य में उपभोग किया जाता है तो वस्तुओ और सेवाओ पर लगने वाले कुल GST में CGST (केंद्र सरकार) और SGST (राज्य सरकार) की हिस्सेदारी बनता है । उदाहरण - 10000 की सामान पर 18 प्रतिशत GST चार्ज किया जाए तो कुल 1800 रूपए GST बनता है इस 1800 रूपए में 900 रूपए केन्द्र सरकार और 900 रूपए राज्य सरकार के पास टैक्स जाता है ।


IGST क्या है - What Is IGST In Hindi


IGST का पूरा नाम Integrated Goods And Service Tax होता है जिसे हिंदी में "एकीकृत वस्तु एवं सेवा कर" कहा जाता है । जब किसी एक राज्य में बनाया गया समान दूसरे राज्य में बेचा जाता है तो केन्द्र सरकार सामान पर IGST लगाता है यानि कि जिस राज्य में सामान बेचा जाता है उस राज्य को IGST से अंकित किया जाता है मतलब सामान पर लगने वाला कुल GST में केंद्र सरकार (CGST) और जिस राज्य में सामान बेचा गया हो उस राज्य सरकार (IGST) की हिस्सेदारी बन जाती है ।


UTGST क्या है - What Is UTGST In Hindi


UTGST का पूरा नाम Union Territory Goods And Service Tax होता है जिसे हिंदी में "केन्द्र शासित प्रदेश वस्तु एवं सेवा कर" भी कहा जाता है । दिल्ली, पंडूचेरी, लद्दाख, जम्मू-कश्मीर जैसे केन्द्र शासित प्रदेश में वस्तु एवं सेवा पर भारत सरकार द्वारा UTGST लगाया जाता है मतलब केन्द्र शासित प्रदेश दिल्ली में उत्पादन किया गया वस्तु दिल्ली में ही बेचा जाए तो IGST से केन्द्र शासित प्रदेश को अंकित किया जाता है यानि कि कुल GST में केन्द्र सरकार (CGST) और केन्द्र शासित प्रदेश (IGST) की हिस्सेदारी हो जाती है ।



नोट - SGST, IGST, UTGST ये तीनो एक समान होता है केवल अंतर इतना है किसी एक राज्य में बनाया गया प्रोडक्ट उसी राज्य में बेचने के क्रम में राज्य सरकार को SGST के रूप में टैक्स प्राप्त होता है और किसी एक राज्य का प्रोडक्ट दूसरे राज्य में बेचने पर IGST एवं केन्द्र शासित प्रदेश का बनाया गया प्रोडक्ट उसी प्रदेश में बेचा जाए तो UTGST के रूप में जाना जाता है ।



ये भी पढें - टीडीएस क्या है?

ये भी पढें - आईटीआर क्या है?

ये भी पढें - ओवरड्राफ्ट क्या है?

ये भी पढें - इनकम टैक्स क्या है?

Post a Comment

Previous Post Next Post