कमर्शियल बैंक क्या है (What Is Commercial Bank In Hindi)

कमर्शियल बैंक क्या है (What Is Commercial Bank) इसपर चर्चा करने से पहले संपष्ट कर देना चाहता हूँ हमारें देश में अनगिनत बैंक मौजूद है और सभी को उनके बैंकिंग सेवाओ के आधार पर कमर्शियल बैंक और कॉपरेटिव बैंकों के समूह में विभाजित किया गया है । सबसे पहले कमर्शियल बैंकों के बारें में समझने की कोशिश किया जाए तो कमर्शियल बैंक मीनिंग इन हिंदी वाणिज्य बैंक होता है जिसे वाणिज्यिक बैंक, व्यापारिक बैंक या व्यावसायिक बैंक भी कहा जाता है तथा कॉपरेटिव बैंक मीनिंग इन हिंदी सहकारी बैंक होते है जिसके संदर्भ में मैनें विस्तार से जानकारी दे चुका हूँ अगर आप नही पढे है तो जरूर पढ़े, क्योंकि इस लेख में कमर्शियल बैंकों के विषय में जानकारी देने जा रहा हूं । चलिए अब बिना देर किए सिधे मुद्दे पर बात करते है और जानते है कमर्शियल बैंक किसे कहते हैं? कमर्शियल बैंक कितने प्रकार के होते है? कमर्शियल बैंक के कार्य क्या है?



कमर्शियल बैंक क्या है (What Is Commercial Bank In Hindi)
कमर्शियल बैंक क्या है (What Is Commercial Bank In Hindi)




कमर्शियल बैंक क्या है (What Is Commercial Bank In Hindi)


कमर्शियल बैंक उन वित्तीय संस्थाओ यानि बैंकों को कहा जाता है जो लाभ कमाने के उद्देश्य से अपने यहां आम जनता का पैसा जमा स्वीकार करता है और जरूरत परने पर आम जनता को ऋण उपलब्ध कराने के साथ साथ विभिन्न प्रकार के बैंकिंग सुविधाए प्रदान करता है ।



कमर्शियल बैंक के प्रकार (Types Of Commercial Bank)


1. सार्वजनिक बैंक (Public Sector Commercial Banks)


राष्ट्रीयकृत बैंक यानि सार्वजनिक क्षेत्र के कमर्शियल बैंक वे बैंक होते है जिसमें सरकार की हिस्सेदारी 50% से अधिक होती है, इस प्रकार के बैंक सरकार द्वारा ही नियंत्रित और संचालित किये जाते है । भारतीय स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, बैंक ऑफ बरौदा, सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया आदी सार्वजनिक क्षेत्र के कमर्शियल बैंक के नाम है


2. निजी बैंक (Private Sector Commercial Banks)


प्राइवेट बैंक यानि निजी क्षेत्र के कमर्शियल बैंक वे बैंक होते है जिसमें निजी व्यक्तियों या संस्थाओ के शेयर (पूंजी) लगी होती है और इस प्रकार के बैंक इनके द्वारा ही नियंत्रित और संचालित किये जाते है । एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक, बंधन बैंक आदी निजी क्षेत्र के कमर्शियल बैंक के नाम है । नोट:- वर्तमान में डिजीटल पेमेंट बैंक जैसे की पेटीएम पेमेंट बैंक, एयरटेल पेमेंट बैंक निजी क्षेत्र से आते है ।


3. क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक (Regional Rural Commercial Banks)


क्षेत्रीय ग्रामीण कमर्शियल बैंक वे बैंक होते है जिसे सरकार और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों द्वारा प्रायोजित किया जाता है यानि की इस प्रकार के बैंकों को खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में संचालित किए जाते है ताकि बैंकिंग सुविधाओ से वंचित लोगों को बैंकिंग सुविधाए मिल सके जिससे की लोगों के साथ-साथ देश का विकास तेजी से हो सके । इलाहाबाद यूपी ग्रामीण बैंक, बिहार ग्रामीण बैंक, आंध्र प्रगति ग्रामीण बैंक, असम ग्रामीण विकास बैंक आदी ग्रामीण क्षेत्र के कमर्शियल बैंक के नाम है


4. विदेशी बैंक (Foreign Sector Commercial banks)


विदेशी क्षेत्र के कमर्शियल बैंक उन बैंकों को कहा जाता है जिनकी शाखाए भारत में है और मुख्यालय विदेश में मौजूद है । सिटी बैंक, अमेरिकन एक्सप्रेस बैंक, बैंक ऑफ अमेरिका, बैंक ऑफ बहरीन एण्‍ड कुवैत, ड्यूश बैंक आदी विदेशी क्षेत्र के कमर्शियल बैंक के नाम है



कमर्शियल बैंक के कार्य (Commercial Bank functions In Hindi)


भारत में मौजूद प्रत्येक कमर्शियल बैंक निम्नलिखित प्रकार के प्रमुख कार्य करता है-


1. मुख्य कार्य (Main Functions)


जमा स्वीकार करना


कमर्शियल बैंक सर्वप्रथम आम जनता के पैसे जमा स्वीकार करता करता है, इसके लिए आम जनता निम्नलिखित प्रकार के खाता ओपन कराने की सलाह देते है-


  • बचत जमा खाता की सुविधाए


बचत योजना के तहत आम नागरिक घरेलू खर्च के बाद बचत किया गया पैसा अपने बचत खाता (Saving Account) में जमा कर सकता है और अपने जमा धन पर बैंक की ओर से क्रमश 4%-5% सालाना ब्याज प्राप्त कर सकता है । कमर्शियल बैंक बचत खाताधारकों को डेबिट कार्ड, चेकबुक, मोबाइल बैंकिंग, नेटबैकिंग जैसी सुविधाए भी देता है ।


  • चालू जमा खाता की सुविधाए 


कमर्शियल बैंक इस प्रकार के खाता विजनेस मैन, कंपनी या अन्य प्रकार के संस्थाओ को ओपेन करने की सलाह देते है क्योंकि चालू खाता योजना के तहत प्रतिदिन जितना चाहे उतना पैसा खाता में डाला और निकाला जा सकता है कोई रोक टोक नही होता । कमर्शियल बैंक चालू खाते में जमा धन पर ब्याज नही देता है परंतु डेबिट कार्ड, चेकबुक, नेटबैकिंग, अनलिमिटेड जमा निकासी जैसी सुविधाए अवश्य देता है ।


  • सावधि जमा खाता की सुविधाए


सावधि जमा योजना के तहत कोई भी व्यक्ति एक निश्चित रकम निश्चित समय के लिए डिपोजिट कर सकता है और अवधि पूर्ण होने के उपरांत अपने धन पर ज्यादा से ज्यादा ब्याॅज प्राप्त कर सकता है । अधिकांश कमर्शियल बैंक सावधि जमा धन पर क्रमश 7%-8% ब्याॅज देता है ।


  • आवर्ती जमा खाता की सुविधाए


कमर्शियल बैंकों के आवर्ती जमा योजना खासकर उनलोगों के लिए फायदेमंद है जो लोग एक बार में मोटी रकम डिपोजिट नही कर सकते यानि आवर्ती योजना के तहत समान किस्तों में छोटी-छोटी रकम प्रत्येक महीने या सालाना निश्चित समय तक जमा करने के दौरान मोटी रकम बनाया जा सकता है और सावधि योजना के समानांतर ब्याज प्राप्त किया जा सकता है ।



ऋण उपलब्ध कराना


कमर्शियल बैंको के दूसरा मुख्य कार्य आम जनता को ऋण (Loan) उपलब्ध कराना होता है, इसके लिए कमर्शियल बैंक आम जनता को निम्नलिखित तरीके से उचित ब्याॅज दरों पर ऋण उपलब्ध करता है- 


  • नगद जमा की सुविधाए 


कमर्शियल बैंक अपने ग्राहकों को एक निश्चित जमानत के आधार पर एक निश्चित धनराशी निकालने का अधिकार देता है, जो की बहुत ही कम ब्याज दरों पर इस प्रकार के ऋण उपलब्ध कराया जाता है ।


  • ओवरड्राप्ट की सुविधाए 


कमर्शियल बैंक इस प्रकार की सुविधा खासकर चालु खाताधारक को देता है, ओवरड्राप्ट सुविधा के तहत चालू खाताधारक अपने खाता में जमा धन से भी अधिक निकाल सकता है ।


  • अग्रिम ऋण की सुविधाए 


अग्रिम ऋण का अर्थ कमर्शियल बैंक द्वारा पहले ग्राहकों के खाते में धन (ऋण) डाल दिया जाता है जिसके बाद ब्याज लगाना चालु करता है ।


  • सरकारी प्रतिभूतियों में निवेश


सरकारी प्रतिभूतियों में निवेश करने की जोखिम कम रहता है इसलिए कमर्शियल बैंक द्वारा सरकारी प्रतिभूतियो को खरीदारी में भी निवेश किया जाता है ।



2. गौण कार्य (Secondary Functions)


कमर्शियल बैंक अपने ग्राहकों के चेक, ब्याज आदि को Collect करने के साथ-साथ उसका भुगतान भी करता है।


कमर्शियल बैंक अपने ग्राहकों को लॉकर की सुविधा देता है, जिसमें महत्वपूर्ण दस्तावेजों को रखा जा सकता है ।


कमर्शियल बैंक विदेशी मुद्रा का विनिमय कर अंतराष्ट्रीय व्यापार को बढ़ाने का कार्य भी करता है।


कमर्शियल बैंक वित्तीय मामलों में अपने ग्राहक को सलाह देने देने के कार्य भी करता है ।


कमर्शियल बैंक अपने ग्राहकों के लिए विभिन्न प्रकार की प्रतिभूतियों को खरीदने और बेचने का भी कार्य करता है।



3. सामाजिक कार्य (Social Work)


कमर्शियल बैंकों द्वारा पूंजी निर्माण करने जैसा कार्य किया जाता है जिससे देश के विकास में मदद मिलती है ।


कमर्शियल बैंक आम लोगों को विभिन्न प्रकार से उचित दरों पर ऋण उपलब्ध कराता है जिससे आम जनता अपनी जरूरतें आसानी से पूरा कर सकते है ।



ये भी पढ़िए:-


अनुसूचित बैंक किसे कहते हैं?

गैर-अनुसूचित बैंक किसे कहते हैं?

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक किसे कहते है?

केंद्रीय और व्यापारिक बैंक में क्या अंतर है?

सरकारी और प्राइवेट बैंक में क्या अंतर है?

स्टेट बैंक और रिज़र्व बैंक में क्या अंतर है?

केंद्रीय और वाणिज्यिक बैंक में क्या अंतर है?

अनुसूचित और गैर-अनुसूचित बैंक में क्या अंतर है?

राष्ट्रीयकृत और गैर-राष्ट्रीयकृत बैंक में क्या अंतर है?

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post