वाणिज्यिक बैंक के प्रकार (Types Of Commercial Bank In Hindi)

जैसा की दोस्तों हमलोग जानतें है वाणिज्यिक बैंक यानि कमर्शियल बैंक किसी भी देश के अर्थव्यवस्था और देश के विकास में अहम भूमिका निभाता है । वर्तमान समय में भारत में कई तरह के वाणिज्यिक बैंक कार्यरत है मैनें इस लेख से पहले वाणिज्यिक बैंक के कार्य के संदर्भ में चर्चा किया था । अब आईयें इस लेख में भारत में वाणिज्यिक बैंक के प्रकार (Types Of Commercial Banks In India) और वाणिज्यिक बैंक के नाम (Name Of Commercial Bank In India) के बारें में जानते है । जी हां दोस्तों अभी के मौजूदा समय में भारत में अनगिनत वाणिज्यिक बैंक है और सभी वाणिज्यिक बैंक लोगों को बैंकिंग सेवाए प्रदान करा रही है लेकिन अधिकांश लोग नही जानतें उनका अकाउंट किस प्रकार के वाणिज्यिक बैंक में मौजूद है । चलिए सिधे मुद्दे पर बात करतें और जानतें है भारत में कमर्शियल बैंक के प्रकार और साथ में कमर्शियल बैंक के नाम भी जानेंगे ।



वाणिज्यिक बैंक के प्रकार - Types Of Commercial Bank In Hindi
वाणिज्यिक बैंक के प्रकार - Types Of Commercial Bank In Hindi




वाणिज्यिक बैंक के प्रकार (Types Of Commercial Bank In Hindi)


लाभ कमाने के उद्देश्य से आम नागरिकों के धन को जमा स्वीकार और जरूरत पड़ने पर ऋण उपलब्ध कराने के साथ साथ विभिन्न प्रकार के बैकिंग सेवाए देने वालें भारत में वाणिज्यिक बैंकों के प्रकार निम्नलिखित है-


1. सार्वजनिक क्षेत्र के वाणिज्यिक बैंक

2. निजी क्षेत्र के वाणिज्यिक बैंक

3. विदेशी क्षेत्र के वाणिज्यिक बैंक






सार्वजनिक क्षेत्र के वाणिज्यिक बैंक किसे कहतें है?


सार्वजनिक बैंक, राष्ट्रीयकृत बैंक या सरकारी बैंक उन वित्तीय संस्था को कहा जाता है जिसमें सरकार की हिस्सेदारी 50% से ज्यादा होती है । वर्तमान समय में सरकार द्वारा कुछ सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को एक दूसरें में विलय किया गया है अब सार्वजनिक क्षेत्र के वाणिज्यिक बैंकों का नाम और संख्या नीचें देखा जा सकता है-


1. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया- (राष्ट्रीयकरण)- 1955


2. सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


3. यूनियन बैंक ऑफ इंडिया- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


4. इंडियन ओवरसीज बैंक- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


5. पंजाब नेशनल बैंक- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


6. बैंक ऑफ इंडिया- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


7. बैंक ऑफ बड़ौदा- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


8. केनरा बैंक- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


9. बैंक ऑफ महाराष्ट्रा- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


10. पंजाब एंड सिंद बैंक- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


11. इंडियन बैंक- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


12. यूको बैंक- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


(नोट:- सभी क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक सार्वजनिक क्षेत्र के वाणिज्यिक बैंक कहलातें है क्योंकि क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक एवं सरकार द्वारा प्रायोजित बैंक होते है)




निजी क्षेत्र के वाणिज्यिक बैंक किसे कहतें है?


जिस वित्तीय संस्था में 50% से अधिक निजी व्यक्तियो का शेयर लगा होता है वह वित्तीय संस्था निजी या प्राइवेट स्वामित्व वाला वाणिज्यिक बैंक कहलाये जाते है, जैसे की निजी क्षेत्र के वाणिज्यिक बैंकों के नाम के साथ साथ उसके मुख्यालय निम्नलिखित प्रकार है-


1. एचडीएफसी बैंक (1994) मुंबई, महाराष्ट्र


2. ऐक्सिस बैंक (1993) मुंबई, महाराष्ट्र


3. बंधन बैंक (2015) पश्चिम बंगाल


4. सीएसबी बैंक (1920) त्रिशूर, केरल


5. यस बैंक (2004) मुंबई, महाराष्ट्र


6. सिटी यूनियन बैंक (1904) तमिल नाडु


7. डीसीबी बैंक (1930) मुंबई, महाराष्ट्र


8. धनलक्ष्मी बैंक (1927) त्रिशूर शहर, केरल


9. फेडरल बैंक (1931) अलुवा, कोच्चि


10. आईसीआईसीआई बैंक (1994) मुंबई, महाराष्ट्र


11. आईडीबीआई बैंक (1964) मुंबई, महाराष्ट्र


12. इंडसइंड बैंक (1994) पुणे, महाराष्ट्र


13. जम्मू और कश्मीर बैंक (1938) श्रीनगर


14. कर्नाटक बैंक (1924) कर्नाटक


15. करूर वैश्य बैंक (1996) तमिल नाडु


16. कोटक महिंद्रा बैंक (2003) मुंबई, महाराष्ट्र


17. नैनीताल बैंक (1922) उत्तराखंड


18. आरबीएल बैंक (1943) मुंबई, महाराष्ट्र


19. साउथ इंडियन बैंक (1929) त्रिशूर, केरल


20. तमिलनाडु मर्केंटाइल बैंक (1921) तमिलनाडु


21. आईडीएफसी फर्स्ट बैंक (2015) मुंबई, महाराष्ट्र


(नोट:- वर्तमान समय में डिजीटल पेमेंट बैंक जैसे की पेटीएम पेमेंट बैंक, एयरटेल पेमेंट बैंक, जियो पेमेंट ये सभी नाम निजी क्षेत्र के वाणिज्यिक बैंक में शामिल है)




विदेशी क्षेत्र के वाणिज्यिक बैंक किसे कहतें है?


जिस वित्तीय संस्था के हेडक्वार्टर विदेश में है और उनकी शाखाए भारत में कार्यरत है तो ऐसे संस्था विदेशी क्षेत्र के वाणिज्यिक बैंक कहलाते है । जैसे की आपने भारत में निचे दिये गए विदेशी क्षेत्र के वाणिज्यिक बैंकों के नाम जरूर देखे होगें-


1. सिटी बैंक – अमेरिका


2. अमेरिकन एक्सप्रेस बैंक – अमेरिका


3. ओमान इण्‍टरनेशनल बैंक – बैंक


4. बैंक इंटरनेशनल इंडोनेशिया – इंडोनेशिया


5. बैंक ऑफ अमेरिका – अमेरिका


6. क्रंग थाई बैंक पब्लिक कम्‍पनी लि0 – थाईलैण्‍ड


7. मिजुहो कॉर्पोरेट बैंक लि0 – जापान


8. बैंक ऑफ बहरीन एण्‍ड कुवैत – बहरीन


9. बैंक ऑफ नोवा स्‍कोटिया – कनाडा


10. चाइटना ट्रस्‍ट कॉमर्शियल बैंक – ताइवान


11. जे पी मोरगन चेज बैंक – अमेरिका


12. अरब बांग्लादेश बैंक – बंग्लादेश 


13. सोनाली बैंक – बांग्‍लादेश


14. अबू धाबी वाणिज्यिक बैंक लिमिटेड – यूएई


15. वार्कलेज बैंक पी एल सी – ब्रिटेन


16. सिनहन बैंक – हांगकांग


17. ड्यूश बैंक – जर्मनी


18. बैंक ऑफ सीलोन – श्री लंका


19. मशरेक बैंक लि0 – यूएई


20. कलयोन बैंक – फ्रांस



ये भी जानिए:- 


केंद्रीय बैंक और वाणिज्यिक बैंक के कार्य क्या है?

केंद्रीय बैंक और वाणिज्यिक बैंक में क्या अंतर है?

वाणिज्यिक और सहकारी बैंक के बीच क्या अंतर है?

1969 में कितने बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया गया था?

1980 में कितने बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया गया था?

भारत में बैंकों का राष्ट्रीयकरण पहली बार कब हुआ?

हरित क्रांति के बाद कितने बैंकों का राष्ट्रीयकरण हुआ?

बैंक कितने प्रकार की राशि जमा स्वीकार करता है?

बैंकों के निजीकरण के लाभ और हानि क्या है?

बैंकों के राष्ट्रीयकरण के लाभ और हानि क्या है?

भारत में कुल कितने व्यावसायिक बैंक मौजूद है?

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post