इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया किसे कहते हैं (Who Is Called Imperial Bank Of India In Hindi)

हमारे देश भारत में सभी बैंकों का इतिहास बहुत पुराना है यदि आप प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी कर रहे है तो अवश्य ही आपको पता होनी चाहिए इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया किसे कहते हैं? जी हां दोस्तों भले ही आज के समय में आपको इंपीरियल बैंक का नाम सुनने को नही मिलेगा परंतु यह बैंक आज भी हमलोगों के बीच मौजूद है यानि ब्रिटिश काल में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ही इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया था, संपष्ट रूप में बात किया जाए तो देश में आजादी के बाद भारतीय सरकार ने इंपीरियल बैंक का नाम बदलकर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया रख दिया था और आज के दौर में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया भारतीय लोगों का पसंदीदा सार्वजनिक क्षेत्र का बैंक बन चुकी है लेकिन इससे पहले इंपीरियल बैंक देश में निजी बैंक के रूप में बैंकिंग सेवाए प्रदान कर रही थी । आईयें विस्तार से जानते है इंपीरियल बैंक की स्थापना कब हुई? इंपीरियल बैंक का राष्ट्रीयकरण कब किया गया यानि इंपीरियल बैंक का नाम कब बदला गया था?



इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया किसे कहते हैं (Who Is Called Imperial Bank Of India In Hindi)
इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया किसे कहते हैं (Who Is Called Imperial Bank Of India In Hindi)




इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया की स्थापना (Establishment Of Imperial Bank Of India)


भारतीय सरकार आजादी के तुरंत बाद 1 जुलाई 1955 में इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया का राष्ट्रीयकरण यानि इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया का नाम बदलकर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया रखा, जबकि इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया की इतिहास पर नज़र डाला जाए तो इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया की स्थापना ब्रिटिश काल 27 जनवरी 1921 में हुई थी, परंतु जिस तरह से स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का जन्म इंपीरियल बैंक का नाम बदलकर किया गया ठिक इसी प्रकार इंपीरियल बैंक को भी स्थापित किया गया था, यानि इंपीरियल बैंक की शुरुआत 2 जून 1806 में स्थापित बैंक ऑफ कोलकाता से हुई थी, फिर यह बैंक 2 जनवरी 1809 में बैंक ऑफ बंगाल बन गया । अब यदि संपष्ट रूप में इंपीरियल बैंक की उदय पर बात किया जाए तो 27 जनवरी 1921 में बैंक ऑफ बंगाल, बैंक ऑफ बॉम्बे और बैंक ऑफ मद्रास तीनों बैंक एक साथ हो गये जिसके बाद यह बैंक इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया बना था । अंतत: बात किया जाए इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया किस बैंक को कहतें है (Who Is Called Imperial Bank Of India) तो शायद आप अवश्य ही समझ गए होगें 27 जनवरी 1921 और जुलाई 1955 के बीच बैंक ऑफ बंगाल, बैंक ऑफ बांम्बे, बैंक ऑफ मद्रास को इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया कहा जाता था, एवं वर्तमान समय में स्टेट बैंक इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया का ही अंश है ।



ये भी जानिए:-


अनुसूचित बैंक किसे कहते हैं?
कमर्शियल बैंक किसे कहते हैं?

निजी क्षेत्र के बैंक किसे कहते हैं?

विदेशी क्षेत्र के बैंक किसे कहते हैं?

क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक किसे कहते हैं?

व्यावसायिक बैंक किसे कहते हैं?

गैर-राष्ट्रीयकृत बैंक किसे कहते है?

गैर-अनुसूचित बैंक किसे कहते है?

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक किसे कहते हैं?

अनुसूचित और गैर-अनुसूचित बैंक में क्या अंतर है?

राष्ट्रीयकृत और गैर-राष्ट्रीयकृत बैंक में क्या अंतर है?

Post a Comment

Previous Post Next Post