व्यापारिक बैंक के प्रकार (Types Of Commercial Banks In Hindi)

भारत में कितने प्रकार के व्यापारिक बैंक है (Types Of Commercial Banks In India) के विषय में जानने आयें है तो आपका स्वागत है, दोस्तों जैसा की आपको पता होगा व्यापारिक बैंक किसी भी देश के अर्थ-व्यवस्था और देश के विकास में अहम योगदान देता है । भारत के विभिन्न गांव एवं शहरों में अनगिनत व्यापारिक बैंक देखने को मिल जाती है एवं वर्तमान समय में अधिकांश लोगों का किसी न किसी बैंक में अकाउंट अवश्य है यानि की प्रत्येक व्यक्ति किसी न किसी बैंक से जुड़े हुए है लेकिन सभी लोगों को पता नही होता है व्यापारिक बैंक कितने प्रकार के होतें है और उनका बैंक अकाउंट किस प्रकार के व्यापारिक बैंक में मौजूद है । दोस्तों पिछले लेख में मैंने व्यापारिक बैंकों के कार्य पर चर्चा किया था यदि आप नही पढें है तो सबसे पहले आपको व्यापारिक बैंक के कार्य के बारें में अवश्य पढ़ना चाहिए क्योंकि इस आर्टिकल में हम बात करने जा रहे है भारत के व्यापारिक बैंक के प्रकार और भारत में व्यापारिक बैंक कौन कौन से है यानि साथ में व्यापारिक बैंक के नाम भी बताएंगे । तो चलिए देर किस बात की आईयें जानते है Vyaparik Bank Kitne Prakar Ke Hote Hai एवं Vyaparik Bank Koun Koun Se Hai?



व्यापारिक बैंक के प्रकार - Types Of Commercial Banks In Hindi
व्यापारिक बैंक के प्रकार - Types Of Commercial Banks In Hindi




व्यापारिक बैंक के प्रकार (Types Of Commercial Bank In Hindi)


शायद आप जानतें होगें जो वित्तीय संस्था लाभ कमाने के उद्देश्य से जनता के पैसे जमा स्वीकार और जरूरत पड़ने पर ऋण देने के कार्य के साथ साथ विभिन्न प्रकार के बैकिंग सेवाए देती है ऐसे वित्तीय संस्था व्यापारिक बैंक कहलातें है । भारत में व्यापारिक बैंकों के प्रकार निम्नलिखित है-


1. सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक (Public Sector Banks)

2. निजी क्षेत्र के बैंक (Private Sector Banks)

3. विदेशी क्षेत्र के बैंक (Foreign Sector Banks)

4. क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक (Regional Rural Banks)

5. डिजीटल पेमेंट बैंक (Digital Payment Banks)





सार्वजनिक क्षेत्र के व्यापारिक बैंक किसे कहतें है (What Is Public Sector Banks In Hindi)


व्यापारिक बैंक, राष्ट्रीयकृत बैंक या सरकारी बैंक उन वित्तीय संस्था को कहा जाता है जिसमें सरकार की हिस्सेदारी 50% से ज्यादा होती है । वर्तमान समय में सरकार द्वारा कुछ सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को एक दूसरें में विलय किया गया है अब सार्वजनिक क्षेत्र के व्यापारिक बैंकों का नाम और संख्या निम्नलिखित है-


1. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया- (राष्ट्रीयकरण)- 1955


2. सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


3. यूनियन बैंक ऑफ इंडिया- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


4. इंडियन ओवरसीज बैंक- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


5. पंजाब नेशनल बैंक- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


6. बैंक ऑफ इंडिया- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


7. बैंक ऑफ बड़ौदा- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


8. केनरा बैंक- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


9. बैंक ऑफ महाराष्ट्रा- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


10. पंजाब एंड सिंद बैंक- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


11. इंडियन बैंक- (राष्ट्रीयकरण)- 1969


12. यूको बैंक- (राष्ट्रीयकरण)- 1969



निजी क्षेत्र के व्यापारिक बैंक किसे कहतें है (What Is Private Sector Banks In Hindi)


जिस वित्तीय संस्था में 50% से अधिक निजी व्यक्तियो का शेयर लगा होता है वह वित्तीय संस्था निजी या प्राइवेट स्वामित्व वाला व्यापारिक बैंक कहलाते है । जैसे की निजी क्षेत्र के व्यापारिक बैंकों के नाम निम्नलिखित है-


1. आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank Ltd.)


2. ऐक्सिस बैंक (Axis Bank Ltd.)


3. बंधन बैंक (Bandhan Bank Ltd.)


4. आईडीबीआई बैंक (IDBI Bank)


5. सिटी यूनियन बैंक (City Union Bank Ltd.)


6. डीसीबी बैंक (DCB Bank Ltd.)


7. धनलक्ष्मी  बैंक (Dhanlaxmi Bank Ltd.)


8. फेडरल बैंक (Federal Bank Ltd.)


9. एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank Ltd.)


10. इंदुसिंद बैंक (Indusind Bank Ltd.)


11. आईडीएफसी बैंक (IDFC Bank Ltd.)


12. येस बैंक (YES Bank)


13. कर्नाटका बैंक (Karnataka Bank Ltd.)


14. करूर वैश्य बैंक (Karur Vysya Bank Ltd.)


15. साउथ इंडियन बैंक (South Indian Bank)


16 लक्ष्मी विलास बैंक (Lakshmi Vilas Bank Ltd.)


17. नैनीताल बैंक (Nainital bank Ltd.)


18. आरबीएल बैंक (RBL Bank Ltd.)


19. कोटक महिंद्रा बैंक (Kotak Mahindra Bank Ltd.)


20. तमिलनाडु मर्केंटाइल बैंक (Tamilnadu Mercantile Bank Ltd.)


21. जम्मू एंड कश्मीर बैंक (Jammu & Kashmir Bank Ltd.)


22. कैथोलिक सीरियन बैंक (Catholic Syrian Bank Ltd.)






विदेशी क्षेत्र के व्यापारिक बैंक किसे कहतें है (What Is Foreign Sector Banks In Hindi)


जिस वित्तीय संस्था के हेडक्वार्टर विदेश में है और उनकी शाखाए भारत में कार्यरत है तो ऐसे संस्था विदेशी क्षेत्र के व्यापारिक बैंक कहलाते है । जैसे की आपने भारत में निचे दिये गए विदेशी क्षेत्र के व्यापारिक बैंकों के नाम अवश्य देखे होगें-


1. सिटी बैंक – अमेरिका


2. अमेरिकन एक्सप्रेस बैंक – अमेरिका


3. ओमान इण्‍टरनेशनल बैंक – बैंक


4. बैंक इंटरनेशनल इंडोनेशिया – इंडोनेशिया


5. बैंक ऑफ अमेरिका – अमेरिका


6. क्रंग थाई बैंक पब्लिक कम्‍पनी लि0 – थाईलैण्‍ड


7. मिजुहो कॉर्पोरेट बैंक लि0 – जापान


8. बैंक ऑफ बहरीन एण्‍ड कुवैत – बहरीन


9. बैंक ऑफ नोवा स्‍कोटिया – कनाडा


10. चाइटना ट्रस्‍ट कॉमर्शियल बैंक – ताइवान


11. जे पी मोरगन चेज बैंक – अमेरिका


12. अरब बांग्लादेश बैंक – बंग्लादेश 


13. सोनाली बैंक – बांग्‍लादेश


14. अबू धाबी वाणिज्यिक बैंक लिमिटेड – यूएई


15. वार्कलेज बैंक पी एल सी – ब्रिटेन


16. सिनहन बैंक – हांगकांग


17. ड्यूश बैंक – जर्मनी


18. बैंक ऑफ सीलोन – श्री लंका


19. मशरेक बैंक लि0 – यूएई


20. कलयोन बैंक – फ्रांस



क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक किसे कहते है (What Is Regional Rural Banks In Hindi)


कमजोर वर्ग के लोगों को बैंकिंग सुविधाओ से जोड़ने हेतु खासकर ग्रामीण इंलाको में सरकार और सार्वजनिक बैंकों द्वारा क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक संचालित किए जाते है । क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक नाम लिस्ट निम्न के है-


1. आर्यावर्त ग्रामीण बैंक - 1 अप्रैल 2019


2. आंध्र प्रगति ग्रामीण बैंक - 1 जून 2006


3. अरुणाचल प्रदेश ग्रामीण बैंक - 1983


4. आंध्र प्रदेश ग्रामीण विकास बैंक - 31 मार्च 2006


5. असम ग्रामीण विकास बैंक - 1976


6. बंगिया ग्रामीण विकास बैंक - 21 फ़रवरी 2007


7. बड़ौदा गुजरात ग्रामीण बैंक - 2005


8. बड़ौदा राजस्थान ग्रामीण बैंक - 1 जनवरी 2013


9. बड़ौदा यूपी ग्रामीण बैंक - 2019


10. चैतन्य गोदावरी ग्रामीण बैंक - 2006


11. छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण बैंक - 1 नंबर 2000


12. दक्षिण बिहार ग्रामीण बैंक - 1 जनवरी 2019


13. इलाकाई देहाती ग्रामीण बैंक - 16 जुलाई 1979


14. हिमाचल प्रदेश ग्रामीण बैंक - 23 दिसंबर 1976


15. जम्मू-कश्मीर ग्रामीण बैंक - 30 जून 2009


16. झारखंड राज्य ग्रामीण बैंक - 12 जून 2006


17. कर्नाटक ग्रामीण बैंक - 1982


18. कर्नाटक विकास ग्रामीण बैंक - 12 सितंबर 2005


19. केरल ग्रामीण बैंक - 8 जुलाई 2013


20. मध्य प्रदेश ग्रामीण बैंक - 8 अक्टूबर 2012


21. मध्यांचल ग्रामीण बैंक - 1 नंबर 2012


22. महाराष्ट्र ग्रामीण बैंक - 25 मार्च 2008


23. मणिपुर ग्रामीण बैंक - 28 मई 1981


24. मेघालय ग्रामीण बैंक - 29 दिसंबर 1981


25. मिजोरम ग्रामीण बैंक - 27 सितंबर 1983


26. नागालैंड ग्रामीण बैंक - 30 मार्च 1983


27. ओडिशा ग्राम्य बैंक - 1 जनवरी 2013


28. पश्चिम बंगा ग्रामीण बैंक - 26 फरवरी 2007


29. प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक - 30 नवंबर 2007


30. पुदुवई भरथियार ग्राम बैंक - 26 मार्च 2008


31. पंजाब ग्रामीण बैंक - 1975


32. राजस्थान मरुधरा ग्रामीण बैंक - 1 अप्रैल 2014


33सप्तगिरी ग्रामीण बैंक - 1 जुलाई 2006


34. सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक - 2013


35. सौराष्ट्र ग्रामीण बैंक - 1978


36. तमिलनाडु ग्राम बैंक - 1 अप्रैल 2019


37. तेलंगाना ग्रामीण बैंक - 2 अक्टूबर 1975


38. त्रिपुरा ग्रामीण बैंक - 21 दिसंबर 1976


39. उत्कल ग्रामीण बैंक - 1 नवंबर 2012


40. उत्तर बंगा क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक - 7 मार्च 1977


41. उत्तर बिहार ग्रामीण बैंक - 1976


42. उत्तराखंड ग्रामीण बैंक - 1 नवंबर 2012


43. विदर्भ कोंकण ग्रामीण बैंक - 28 फरवरी 2013



डिजीटल पेमेंट बैंक किसे कहतें है (What Is Digital Payment Banks In Hindi)


जैसा की आपलोग जानते होगें भारत में इंटरनेट आने और नोटबंदी के बाद खुदरा लेन-देन को आसान बनाने के लिए पेमेंट बैंकों का आगमन हुआ । डिजीटल पेमेंट बैंक के नाम लिस्ट निम्न प्रकार के है और आज-कल सभी लोग इस्तेमाल करते है-


1. एयरटेल पेमेंट बैंक (Airtel Payment Bank)

2. पेटीएम पेमेंट बैंक (Paytm Payment Bank)

3. जियो पेमेंट बैंक (Jio Payment Bank)

4. एनएसडीएल पेमेंट बैंक (NSDL Payment Bank)



ये भी जानिए:- 


वाणिज्यिक बैंक और केंद्रीय बैंक के कार्य क्या है?

केंद्रीय बैंक और वाणिज्यिक बैंक में क्या अंतर है?

भारत में वित्तीय वर्ष कब से कब तक का होता है?

क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक किसके द्वारा प्रायोजित होते है?

स्टेट बैंक द्वारा प्रायोजित ग्रामीण बैंक कौन-कौन से है?

व्यावसायिक बैंक कितने प्रकार के जमा राशि स्वीकारता है?

बैंकों के निजीकरण के लाभ और हांनियो का वर्णन कीजिए

बैंकों के राष्ट्रीयकरण के लाभ और हानियों का वर्णन कीजिए

वाणिज्यिक बैंक के मुख्य कार्यों की व्याख्या कीजिए

हरित क्रांति के बाद कितने बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया गया?

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post