GPF और VPF में क्या अंतर है? - Difference Between GPF And VPF In Hindi

GPF और VPF में क्या अंतर है? - यदि आप इसके बारें में जानने आये है तो आपको अवश्य ही पता होगा सरकारी योजना भविष्य निधि (Provident Fund) के लिये सभी सरकारी या प्राइवेट संस्थाओ में काम करने वाले कर्मचारियो का कर्मचारी भविष्य निधि (Employee Provident Fund) खाता होना अनिवार्य होता है । यानि सरल शब्दो में समझा जाए तो भविष्य निधि (PF) एक रिटायर्मेंट बचत योजना है प्रत्येक सरकारी या प्राइवेट कर्मचारियो का कर्मचारी भविष्य निधि (Employee Provident Fund) यानि EPF खाता होता है जिसमें सरकार के नियमानुसार कंपनी द्वारा कर्मचारी के हित में उसके प्रत्येक महीने की सैलरी से 12% काटकर EPF खाता में डालने का काम कर्मचारी के रिटायर्मेंट होने तक नियंतर जारी रखता है । अब सीधे मुद्दे पर बात किया जाए GPF और VPF की तो ये दोनो कर्मचारी भविष्य निधि (EPF) खाता के प्रकार है जो कि कर्मचारियो के लिए ही होता है । चलिए बिना देर किए जानने की कोशिश करते है आखिर GPF और VPF क्या होता है? और GPF और VPF के बीच क्या अंतर है



GPF और VPF में क्या अंतर है? - What Is Difference Between GPF And VPF In Hindi
GPF और VPF में क्या अंतर है? - What Is Difference Between GPF And VPF In Hindi




जीपीएफ और वीपीएफ में क्या अंतर है? - What Is Difference Between GPF And VPF In Hindi 


GPF Full Form In English "General Provident Fund" होता है जबकि VPF Full Form In English "Voluntary Provident Fund" होता है ।


जीपीएफ फुल फ़ॉर्म इन हिंदी "सामान्य भविष्य निधि" होता है और वीपीएफ फुल फ़ॉर्म इन हिंदी "स्वैच्छिक भविष्य निधि" होता है ।


सरकार के नियमानुसार कंपनी की जिम्मेदारी होती है अपने कर्मचारियो का भविष्य निधि योजना से जुड़ने हेतु EPF खाता ओपेन कराये । जबकि GPF और VPF दोनो ही EPF खाता के रूप होतें है ।


जीपीएफ को कर्मचारी का सामान्य भविष्य निधि खाता भी कहा जाता है और वीपीएफ को कर्मचारी का स्वैच्छिक भविष्य निधि खाता कहा जाता है ।


सामान्य भविष्य निधि (GPF) योजना केवल सरकारी कर्मचारियो के लिए होता है जबकि स्वैच्छिक भविष्य निधि (VPF) योजना प्राइवेट संस्थाओ में कार्य करने वाले कर्मचारियो के लिए होता है ।


सरकारी कर्मचारी अपनी मर्जी से सैलरी द्वारा 12% ज्यादा एक निश्चित रकम EPF खाता में डालता है तो उसका EPF खाता GPF खाता में जाना जाता है । और जब प्राइवेट कर्मचारी भी अपनी स्वेच्छा से EPF खाते में 12% से जयादा रकम जमा करता है तो इनका भी EPF खाता VPF खाता में तब्दील कर दिया जाता है ।


रिटायर्मेंट पर एक मोटी रकम प्राप्ति के लिए सरकारी कर्मचारी के लिए सामान्य भविष्य निधि योजना और प्राइवेट कर्मचारी के लिए स्वैच्छिक भविष्य निधि योजना में निवेश करना बेहतरीन विकल्प है ।


जरूरत परने पर General Provident Fund खाता और Voluntery Provident Fund खाता से नियमानुसार रकम कई बार निकाले और लौटाया जा सकता है जिसपर ब्याॅज देना नही परता है ।


EPF की तरह GPF और VPF दोनो में निवेश करने पर मिलने वाला ब्याज और मैच्योरिटी पीरियड पूरा होने पर पैसा पूरी तरह टैक्स फ्री है ।


नोट- सामान्य भविष्य निधि और स्वैच्छिक भविष्य निधि की पूरी जानकारी कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) की वेबसाइट पर देखी जा सकती है ।



ये भी पढें - PPF योजना क्या है?

ये भी पढें - NPS योजना क्या है?

ये भी पढें - EDLI योजना क्या है?

Post a Comment

Previous Post Next Post