क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक के कार्य (Functions Of Regional Rural Bank)

क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक के कार्य (Functions Of Regional Rural Bank) जानने आयें है तो आप भलीभांति जानते होगें Regional Rural Banks जिसे हिंदी में क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक (RRBs) कहा जाता है, वर्तमान में भारत में क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक की संख्या 43 हैं और प्रत्येक क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक सरकार और प्रायोजक सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों द्वारा नियंत्रित और संचालित किये जाते है क्योंकि प्रत्येक क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक में केन्द्र सरकार की हिस्सेदारी 50% राज्य सरकार की 15% और प्रायोजक सार्वजनिक बैंक की हिस्सेदारी 35% होती है । क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक खासकर ग्रामीण और अर्ध-शहरी इंलाको में देखने को मिल जाती है क्योंकि सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्र में क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक स्थापित करने का मुख्य उद्देश्य छोटें सीमांत किसानों, ग्रामीण क्षेत्र के मजदूरों, छोटें कारीगरों को बैंकिंग सुविधाओ से जोड़ना है ताकि इनलोगों के साथ साथ देश के विकास हो सके, यानि संपष्ट है कि सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकिंग सुविधाओ से वंचित लोगों को बैंकिंग सेवाए पहुँचाने के लिए क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक की स्थापना की जाती है । अब बिना देर किए आईयें जानतें है क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों की संरचना यानि RRB संगठन की संरचना और भारत में क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक के कार्य क्या है (Functions Of Regional Rural Banks In India)




क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक के कार्य (Functions Of Regional Rural Bank)
क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक के कार्य (Functions Of Regional Rural Bank)




क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक संगठन की संरचना (Regional Rural Banks Structure)


RRB की संरचना आरआरबी के आकार और प्रकृति के आधार पर एक क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक से दूसरे क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक में भिन्न हो सकता है, एक क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक में अधिकारियों का पदानुक्रम निम्नलिखित प्रकार होतें है-


  • निदेशक मंडल
  • अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक
  • महाप्रबंधक
  • सहायक महाप्रबंधक
  • क्षेत्रीय प्रबंधक/मुख्य प्रबंधक
  • वरिष्ठ प्रबंधक
  • प्रबंधक
  • अफ़सर
  • कार्यालय सहायक
  • कार्यालय परिचारक



क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों के कार्य (Functions Of Regional Rural Banks)


भारत के ग्रामीण और अर्ध-शहरी क्षेत्रों में बैंकिंग सुविधाओ से वंचित लोगों तक बैंकिंग सुविधाएं उपलब्ध कराना क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों का मुख्य कार्य है ।


क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक छोटे और सीमांत किसानों, कृषि मजदूरों, सहकारी समितियों, कारीगरों, छोटे उद्यमियों और छोटे साधनों वाले लोगों को ऋण (Loan) प्रदान करने का कार्य करता है ।


सरकार द्वारा चलाये जाने वाला विभिन्न योजना जैसे की महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (MGNREGA) के तहत मजदूरों की मजदूरी का भुगतान करने जैसा कार्य भी क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक करता है ।


सरकार द्वारा दिये जाने वाला पेंशन एवं अन्य प्रकार के सरकारी लाभों को ग्रामीण क्षेत्रों तक पहुँचाने का कार्य भी क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक करता है ।


आम लोगों का पैसा जमा स्वीकार, ऋण उपलब्ध, लॉकर की सुविधा, डेबिट और क्रेडिट कार्ड की तरह पैरा-बैंकिंग सुविधाएं उपलब्ध कराने जैसा कार्य भी क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक द्वारा किए जाते है ।



ये भी जानिए:-


केंद्रीय बैंक के कार्य क्या है?

व्यापारिक बैंक के कार्य क्या है?

भारत में कुल कितने क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक है?

भारत में कितने प्रकार के बैंक कार्यरत है?

केंद्रीय बैंक और व्यापारिक बैंक में क्या अंतर है?

बैंक कितने प्रकार के जमा राशि स्वीकार करता है?

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post