इंपीरियल बैंक का राष्ट्रीयकरण कब किया गया?

गोरेवाला समिति की सिफारिश पर 1 जुलाई 1955 में भारतीय सरकार द्वारा इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया का राष्ट्रीयकरण करने के उपरांत इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया का नाम बदलकर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया कर दिया गया, लेकिन इससे पहले इंपीरियल बैंक का इतिहास देखा जाए तो सन 1921 में बैंक ऑफ बंगाल, बैंक ऑफ मद्रास, बैंक ऑफ मुंबई को एक साथ मिलाकर इंपीरियल बैंक बनाया गया था, यानि संपष्ट है की भलें ही आज के दौर में भारतीय स्टेट बैंक देश का प्रसिद्ध और सबसे बड़ा सार्वजनिक क्षेत्र का बैंक बन चुकी है, परंतु इंपीरियल बैंक तक का सफ़र एक निजी बैंक का था । यदि आप एक भारतीय है या प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी कर रहे है तो अवश्य ही नीचे दिये गए इंपीरियल बैंक से संबंधित जानकारियों का पता होनी चाहिए-



इंपीरियल बैंक का राष्ट्रीयकरण कब किया गया?
इंपीरियल बैंक का राष्ट्रीयकरण कब किया गया?




1. इंपीरियल बैंक की स्थापना कब हुई?


इंपीरियल बैंक की स्थापना ब्रिटिश शासन काल में बैंक ऑफ बंगाल, बैंक ऑफ मद्रास, बैंक ऑफ मुंबई को एक साथ मिलाने के उपरांत 27 जनवरी 1921 में हुई ।



2. इंपीरियल बैंक का राष्ट्रीयकरण कब किया गया?


देश में आजादी मिलने के कुछ वर्ष बाद भारतीय सरकार द्वारा 1 जुलाई 1955 में इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया का राष्ट्रीयकरण किया गया था ।



3. भारतीय स्टेट बैंक का पुराना नाम क्या है?


भारतीय स्टेट बैंक का पुराना नाम इंपीरियल बैंक था, यानि 1 जुलाई 1955 में इंपीरियल बैंक का नाम बदलकर भारतीय स्टेट बैंक रखा गया ।



4. भारतीय स्टेट बैंक की स्थापना किसके सिफारिश पर किया गया?


भारतीय स्टेट बैंक की स्थापना गोरेवाला समिति के सिफारिश पर की गई थी ।



5. भारतीय स्टेट बैंक के मुख्यालय कहाँ है?


भारतीय स्टेट बैंक के मुख्यालय मुंबई भारत में स्थित है ।




ये भी जानिए:-


भारतीय स्टेट बैंक समूह में कितने बैंक है?

भारत में बैंकों का राष्ट्रीयकरण कब किया गया?

1969 में कितने बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया गया?

1980 में कितने बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया गया?

भारत में 6 बैंकों का राष्ट्रीयकरण कब किया गया?

भारत में 14 बैंकों का राष्ट्रीयकरण कब किया गया?

हरित क्रांति के बाद कितने बैंकों का राष्ट्रीयकरण हुआ?

राष्ट्रीयकृत और गैर-राष्ट्रीयकृत बैंक में क्या अंतर है?

भारत में बैंकों के राष्ट्रीयकरण के कारण क्या था?

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post