डेबिट और क्रेडिट कार्ड मे अंतर क्या होता है?

डेबिट और क्रेडिट कार्ड मे क्या अंतर होता है बहुत कम लोग जानते है शायद आपको भी पता नही होगा इसका मुख्य वजह है की डेबिट कार्ड व्यक्ति के खाते के लिए बैंक द्वारा जारी किए जाते है मगर क्रेडिट कार्ड व्यक्ति के इनकॉम के आधार पर बैंक द्वारा जारी किए जाते है इसलिए आपको डेबिट कार्ड सभी के पास दिख जाएगे मगर क्रेडिट कार्ड कुछ ही गिने-चुने लोगो के पास होता है डेबिट और क्रेडिट दोनो कार्ड की बात किया जाए तो दिखने मे बिल्कुल एक जैसे होते है उपयोग भी लगभग एकसमान ही होते है इसलिए बहुत लोग कंफ्यूज होते है चलिए यदि आप भी जानना चाहते है डेबिट और क्रेडिट कार्ड क्या होता है इनके बीच क्या अंतर है तो संपूर्ण आर्टिकल को अवश्य पढे हम विस्तार से इन दोनो कार्ड के बारे मे बताने जा रहे है!


डेबिट और क्रेडिट कार्ड मे अंतर क्या होता है?
डेबिट और क्रेडिट कार्ड मे अंतर क्या होता है?



ये भी पढे- रूपए डेबिट कार्ड क्या होता है?

ये भी पढे- रूपए क्रेडिट कार्ड क्या होता है?


नीचे पढे डेबिट कार्ड क्या होता है?


यह एक प्लास्टिक कार्ड होता है जिसपर कार्ड होल्डर के नाम के साथ सोलह डिजीट नंबर, एक्सपाईरी डेट, तीन अंको की CVV नंबर होता है डेबिट कार्ड बनाने के लिए किसी भी बैंक मे सेविंग या करंट अकाउंट होना आवश्यक होता है बैंक द्वारा आपके अकाउंट के लिए डेबिट कार्ड जारी किए जाते है डेबिट कार्ड के उपयोग की बात किया जाए तो इस कार्ड के जरिए आनलाईन शापिंग, एटीएम मशीन से कैस निकासी, मनी ट्रांसफर, स्वैप मशीन के जरिए बिल पेमेंट एवं विभिन्न प्रकार के रीचार्ज, टिकट बुक इत्यादी मे पेमेंट किया जा सकता है क्योंकि डेबिट कार्ड बैंक अकाउंट से लिंक होता है अकाउंट मे जितना भी पैसा होता है डेबिट कार्ड के माध्यम से खर्च किया जा सकता है!


क्रेडिट कार्ड क्या होता है?


यह कार्ड दिखने मे बिल्कुल डेबिट कार्ड की तरह होता है क्रेडिट कार्ड का उपयोग भी बिल्कुल डेबिट कार्ड की तरह होता है लेकिन क्रेडिट कार्ड सेविंग या करंट अकाउंट से लिंक नही होता कार्ड की पहचान की बात किया जाए तो कार्ड पर संपष्ट रूप से डेबिट दर्ज होता है वह डेबिट कार्ड होता है तथा जिस कार्ड पर क्रेडिट लिखा हो वह क्रेडिट कार्ड होता है क्रेडिट कार्ड बनवाने के लिए आवेदनकर्ता को अपनी इनकॉम प्रूफ डिटेल बैंक को देना होता है बैंक वैरीफाई करने के बाद एक लिमिट रकम उधार महीने मे देने की अनुमति देता है व्यक्ति उस रकम को खर्च कर सकता है तथा बैंक द्वारा खर्च किए गए रकम पर बिल मिलने पर भुगतान करना होता होता है!


डेबिट और क्रेडिट कार्ड के बीच क्या अंतर होता है?


  • डेबिट कार्ड बनवाने के लिए सबसे प्रथम बैंक मे सेविंग या करंट अकाउंट ओपेन कराना होता है उसके बाद आवेदन द्वारा डेबिट कार्ड प्राप्त किया जाता है लेकिन क्रेडिट कार्ड बनाने के लिए बैंक या वित्तीय संस्थान को अपनी इनकॉम प्रूफ डोकोमेन्ट्स देना होता है बैंक वैरीफाई करने के बाद ही क्रेडिट कार्ड जारी करता है!


  • डेबिट कार्ड बैंक अकाउंट से लिंक होता है इसलिए खाते मे जितना भी पैसा है डेबिट कार्ड के उपयोग से खर्च कर सकते है परंतू क्रेडिट कार्ड बैंक अकाउंट से लिंक नही होता बैंक एक लिमिट राशि महिने मे खर्च करने के लिए देता है इसलिए क्रेडिट कार्ड के उपयोग से लिमिट से ज्यादा खर्च नही कर सकते!


  • डेबिट के उपयोग से अपने खाते मे रखे रूपए को खर्च करते है इसलिए कोई ब्याॅज नही लगता मगर क्रेडिट कार्ड के उपयोग से बैंक द्वारा दी जाने वाली उधार राशि होती है इसलिए खर्च किये गए राशि के लिए बैंक से दी जाने वाली बिल को समय पर भुगतान ना करने के स्थिति मे बैंक द्वारा खर्च किये गए रकम पर ब्याॅज जोड़कर लिया जाता है!


  • आनलाईन शापिंग साईट पर क्रेडिट कार्ड के उपयोग से EMI पर प्रोडक्ट खरीदा जा सकता है जिसको किस्तो मे पेमेंट किया जा सकता है तथा क्रेडिट कार्ड यूजर को आनलाईन शापिंग मे किसी भी प्रोडक्ट पर भारी मात्रा मे छूट कैसबैक, रिवार्ड पाॅइंट मिल जाता है जिसको नेक्स्ट टाईम रीडिम किया जा सकता है परंतू डेबिट कार्ड के लिए क्रेडिट जैसा ऑफर नही दिया जाता है!


  • डेबिट कार्ड बनवाना बहुत आसान होता है किसी भी बैंक मे सिर्फ सेविंग या करंट अकाउंट होना चाहिए उसके बाद आवेदन करके प्राप्त कर सकता है आज-कल गरीब हो या अमीर सभी का बैंक अकाउंट अवश्य होता है इसलिए अधिकांश लोगो के पास डेबिट कार्ड होता है मगर क्रेडिट कार्ड बनवाने की बात किया जाए तो अपना इनकॉम प्रूफ बैंक को देना अनिवार्य होता है जो की सभी लोग नौकरी वाले नही होते इसलिए गिने-चुने लोगो के पास ही क्रेडिट कार्ड होता है!

Post a Comment

Previous Post Next Post