भारत में बैंकों का पुराना रूप क्या है? - What Is The Old Form Of Banks In India

भारत में बैंकों का पुराना रूप क्या है? (What Is The Old Form Of Banks In India) से संबंधित सवाल अक्सर परीक्षाओ में विद्यार्थियो से पुछें जाते है, यदि आप भारत में बैंकों के इतिहास के बारें में जानने आये है तो आपका बहुत बहुत स्वागत है । दोस्तों भारत में बैंकिंग की शुरूआत 1770 में "बैंक ऑफ हिन्दुस्तान" को स्थापित करने के दौरान ही हो चुकी थी लेकिन यह बैंक सुचारू रूप से नही चलने के कारण इसे 1830 में बंद करने पड़े, आज के समय में "बैंक ऑफ हिन्दुस्तान" भारत का प्रथम बैंक के रूप में जाना जाता है । बैंक ऑफ हिन्दुस्तान के बाद 1786 में "जनरल बैंक ऑफ इंडिया का उदय हुआ यह बैंक भी चल नही पाया 1791 में पुर्ण रूप से बंद कर दिए गए, ठिक इसी प्रकार भारत में कई बैंकों की स्थापना हुई कुछ बंद दिये गए, कुछ बैंकों का नाम बदलने के साथ-साथ एक दूसरें बैंक में विलय कर दिए गए, लेकिन 1865 में जन्में इलाहाबाद बैंक भारत का सबसे पुराना बैंक है जो बंद नही हुआ और इसका नाम भी नही बदला गया था परंतु हाल ही में भारत सरकार द्वारा इलाहाबाद बैंक को इंडियन बैंक में विलय कर दिया । दोस्तों शुरूआती दौर में भारत में अनगिनत बैंकों का उदय अवश्य हुआ लेकिन कुछ बैंक मार्गदर्शन के अभाव में सुचारु रूप से चल नही पा रहे थे तथा कुछ बैंक अपनी मनमर्जी तरीके से चल रहे थे, इसी को देखतें हुवे ब्रिटिश सरकार द्वारा ब्रिटिश संसद में भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 बिल पास कराया जिसके तहत भारतीय रिज़र्व बैंक की स्थापना केन्द्रीय बैंक के रूप में किया गया ताकी विभिन्न प्रकार के बैंकों को सही मार्गदर्शन मिल सके एवं सभी बैंक भारतीय रिज़र्व बैंक कानून के मुताबिक काम करें ।



भारत में बैंकों का पुराना रूप क्या है? - What Is The Old Form Of Banks In India




भारतीय रिज़र्व बैंक का इतिहास - History Of Reserve Bank Of India In Hindi


भारतीय रिज़र्व बैंक की स्थापना भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 के प्रावधानों के अनुसार 1 अप्रैल, 1935 को हुई थी, शुरुआत में भारतीय रिज़र्व बैंक का केंद्रीय कार्यालय कोलकाता में स्थित था जिसे 1937 में मुंबई में स्थायी रूप से स्थानांतरित कर दिया गया । प्रारंभ में भारतीय रिज़र्व बैंक निजी स्वमित्व वाला बैंक था, परंतु आजादी के तुरंत बाद भारतीय सरकार द्वारा 1 जनवरी 1949 में भारतीय रिज़र्व बैंक का राष्ट्रीयकरण करने के साथ-साथ केंद्रीय बैंक घोषित दिया, जिसके बाद से अन्य सभी बैंक भारतीय रिज़र्व बैंक के दिशानिर्देश पर कार्य करता है, एवं वर्तमान समय में भारतीय रिज़र्व बैंक बैंकों का बैंक कहलाता है क्योंकि भारतीय रिज़र्व बैंक देश का एकमात्र ऐसा सर्वोच्च बैंक है जिसके मुख्य कार्यालय में गवर्नर बैठते हैं एवं नीतियाँ निर्धारित की जाती हैं ।



भारतीय स्टेट बैंक का इतिहास - History Of State Bank Of India In Hindi


भारतीय स्टेट बैंक का संबंध भी ब्रिटिश काल से जुड़ा हुआ हैं, अगर स्टेट बैंक का पुराना रूप पर चर्चा की जाये तो ब्रिटिश शासन काल 1806 में स्थापित बैंक ऑफ बंगाल, 1840 में स्थापित बैंक ऑफ बांबे और 1843 में स्थापित बैंक ऑफ मद्रास हुआ करता था, 27 जनवरी 1921 में तीनो बैंकों को एक साथ मिलाकर इम्पीरियल बैंक ऑफ इंडिया की स्थापना किया गया, फिर आजादी के बाद इम्पीरियल बैंक का नाम बदलकर भारतीय सरकार ने 1 जुलाई 1955 को भारतीय स्टेट बैंक की स्थापना कर दी, एवं फिर से कुछ 1959 को संसद में भारतीय स्टेट बैंक अधिनियम, 1959 पारित करने के उपरांत 8 पूर्व सहयोगी बैंकों को (वर्तमान में सात) अधिग्रहण किया गया इसके बाद स्टेट बैंक समूह के सभी आठ बैंक भारतीय स्टेट बैंक के सहायक बैंक बन गए ।


भारतीय स्टेट बैंक के समूह के बैंक-


1. स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर


2. स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद


3. स्टेट बैंक ऑफ मैसूर


4. स्टेट बैंक ऑफ पटियाला


5. स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर


6. स्टेट बैंक ऑफ इंदौर


7. स्टेट बैंक ऑफ सौराष्ट्र



बैंकिंग परीक्षाओ में पुंछे जाने वाला सवाल


भारत का सबसे पहला बैंक कौन सा है?


भारत का सबसे पहला बैंक "बैंक ऑफ हिन्दुस्तान" था जिसकी स्थापना सन 1770 में हुआ था, नही चलने के कारण 1830 में पुर्ण रूप से बंद करना पड़ा ।


भारत का दूसरा सबसे पुराना बैंक कौन सा है?


बैंक ऑफ हिन्दुस्तान के बाद 1786 में जनरल बैंक ऑफ इंडिया का स्थापना हुआ था, बैंक ऑफ हिन्दुस्तान की तरह ये भी चल नही पाया 1791 में बंद हो गया ।


भारत का सबसे पुराना चालू बैंक कौन सा है?


भारत का सबसे पुराना चालू बैंक इलाहाबाद बैंक था जिसकी स्थापना 1865 में हुई थी परंतु हांल ही में इलाहाबाद बैंक का विलय इंडियन बैंक में हो जाने के बाद, वर्तमान में सबसे पुराना चालू बैंक की लिस्ट में पंजाब नेशनल बैंक आ गई है जिसकी स्थापना 19 मई 1894 में हुई थी ।



ये भी जानिए:-


भारत में कुल कितने प्राइवेट बैंक है?

भारत में कुल कितने विदेशी बैंक है?

भारत में कुल कितने व्यापारिक बैंक है?

भारत में कुल कितने राष्ट्रीयकृत बैंक है?

भारत में कुल कितने क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक है?

Post a Comment

Previous Post Next Post