नाबार्ड क्या है इसकी स्थापना कब हुई?

नाबार्ड फुल फ़ॉर्म:- NABARD का फुल फ़ॉर्म National Bank For Agriculture And Rural Development या हिंदी में राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक है, भारत में नाबार्ड की स्थापना 12 जुलाई 1982 में 'विकास सहायता' और 'गरीबी में कमी' लाने के उद्देश्य से की गई थी, वर्तमान में नाबार्ड का प्रधान कार्यालय मुंबई, महाराष्ट्र में स्थित है एवं देश के विभिन्न राज्यों तथा केन्द्र शासित क्षेत्रों में नाबार्ड के क्षेत्रीय कार्यालयों की संख्या 31 कार्यरत हैनाबार्ड क्या है और नाबार्ड के कार्य क्या है आईयें इस लेख में विस्तारपूर्वक जानने की कोशिश करतें है यदि आप प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी कर रहे है तो अवश्य ही आपको पुरी आर्टिकल पढ़ना चाहिए क्योंकि अक्सर प्रतियोगिता परीक्षाओ में नाबार्ड से संबंधित सवाल पुंछे जाते है, चलिए देर किस बात की आईयें जानते है NABARD Kya Hai और NABARD Ke Karya Kya Hai?



नाबार्ड क्या है इसकी स्थापना कब हुई?
नाबार्ड क्या है इसकी स्थापना कब हुई?




नाबार्ड क्या है (What Is NABARD)


नाबार्ड वर्तमान में भारत सरकार का स्वामित्व वाला एक ऐसा विकास वित्तीय बैंकिंग संस्थान है जो कृषि एवं ग्रामीण क्षेत्रों के विकास हेतु वित्त प्रदान करता है यानि नाबार्ड ग्रामीण क्षेत्रों में विभिन्न प्रकार के व्यवसायों जैसे कि कृषि के अतिरिक्त छोटे उद्योगों, कुटीर उद्योगों एवं अन्य ग्रामीण परियोजनाओं के विकास के लिये उत्तरदायी है ।


नाबार्ड के कार्य (Functions Of NABARD)


राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) के प्रमुख कार्य निम्नलिखित प्रकार के होतें है:-


नाबार्ड विभिन्न वित्तीय योजनाओं को ग्रामीण क्षेत्रों में जमीनी स्तर पर कार्यान्वित करने के लिए राज्य सरकार, केंद्र सरकार, रिजर्व बैंक और वित्तीय एजेंसियों के बीच सामंजस्य बनाकर कार्य करता है ।


नाबार्ड किसानों के कल्याण हेतु विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों द्वारा प्रशिक्षित करता है एवं क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों को लाइसेंस दिलाने के लिए रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया से सिफारिश भी करता है ।


नाबार्ड द्वारा देश के सभी जिलों के लिए सालाना ऋण योजनाएं बनाता है और ग्रामीण क्षेत्रों बैंकिंग में नये अनुसंधान का कार्य करता है । इसके अलावा कृषि अनुसंधान में भी मदद करता है।


नाबार्ड बैंक कर्मचारी नियुक्ति के लिए देशभर में आयोजित होने वाली इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकिंग पर्सनेल सेलेक्शन (IBPS) परीक्षा प्रतिभा प्रबंधन का कार्य भी करता है जिससे की बैंकों को सही और योग्य उम्मीदवार मिल सके।


राष्ट्रीय कृषि विकास बैंक (NABARD) खासकर किसानों के कल्याण हेतु समय-समय पर सहकारी बैंकों और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों का निरीक्षण और निगरानी नियंतर करते रहने का कार्य करता है।


नाबार्ड ग्रामीण क्षेत्रों में विकास हेतु जैसे की सिंचाई, सड़के, पुलों के निर्माण, स्वास्थ्य, शिक्षा, मिट्टी का संरक्षण, जल की परियोजनाएं जैसे विभिन्न प्रकार के कामों के लिए ऋण उपलब्ध कराता है, नाबार्ड की इस तरह के कामों से ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार उपलब्ध होतें है एवं कमाने के अन्य विकल्प भी खुल जाते है ।



ये भी जानिए:-


क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक किसे कहते हैं?

क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक के कार्य क्या है?

ग्रामीण बैंक सरकारी है या प्राइवेट?

क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों की स्थापना कब हुई?

क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों के मुख्यालय कहाँ है?

भारत में कुल कितने क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक है?

भारत में प्रथम ग्रामीण बैंक की स्थापना कब हुई?

क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक किसके द्वारा प्रायोजित होतें हैं?

स्टेट बैंक द्वारा प्रायोजित ग्रामीण बैंक कौन-कौन है?

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post