Atm मशीन कितने प्रकार के होते हैं?

आज के समय में पैसे निकालने के लिए एटीएम मशीन का इस्तेमाल तो सभी लोग करते है लेकिन एटीएम मशीन कितने प्रकार के होते हैं अधिकांश लोग नही जानते होंगे! दोस्तो शायद आपको पता होगा एक समय ऐसा था एटीएम मशीन का नामोनिशान नही था कोई भी व्यक्ति अपने अकाउंट में पैसे जमा या अकाउंट से पैसे निकालने के लिए बैंको के लाईन में घंटो खड़ा रहते थे लेकिन अब वक्त पुरी तरह से बदल चुका है आजकल बैंक गये बिना कभी भी कही से एटीएम मशीन के माध्यम से अपने बैंक अकाउंट को एक्सेस किया जा सकता है यानि कि जरूरत परने पर एटीएम मशीन के जरिए कैस निकासी, कैस डिपॉजिट या चेक डिपॉजिट के साथ-साथ अन्य बैंक अकाउंट से संबंधित मनी ट्रांसफर, आधार मोबाइल नंबर लिंक या चेंज इत्यादि कार्य मिनटों में आसानी से किया जा सकता है! दोस्तों यदि आप एटीएम मशीन का इस्तेमाल करते होंगे तो अवश्य ही अलग-अलग रंग और डिजाइन के एटीएम मशीन देखते होगें लेकिन आपको एटीएम मशीन कितने प्रकार के होते है ये बात बिल्कुल पता नही होगा अगर आप जानना चाहते है तो नीचे अवश्य पढे एटीएम मशीन क्या है एटीएम के फुल फॉर्म और एटीएम मशीन कितने टाईप के होता है!



Atm मशीन कितने प्रकार के होते हैं?
Atm के प्रकार



ये भी पढे- एटीएम कार्ड कितने प्रकार के होते हैं?

ये भी पढे- बैंक अकाउंट कितने प्रकार के होते है?




एटीएम क्या है और इसका फुल फॉर्म


Atm का फुल फाॅर्म Automated Teller Machine जिसको हिंदी में "स्वचालित गणक मशीन" भी बोला जाता है एवं भारतीय भाषा में "Any Time Money" यानि हर वक्त पैसा देने वाला मशीन भी कहा जाता है! एटीएम मशीन एक कंप्यूटरीकृत इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जो सेटेलाइट के जरिए बैंक सर्वर के साथ लिंक होता है इस मशीन का उपयोग केवल वही शक्स कर सकता है जिनके पास डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड मौजूद है!



एटीएम मशीन का अविष्कार कब किसने किया?


एटीएम मशीन का अविष्कार ब्रिटिश नागरिक जॉन शेफर्ड बैरोन और उनकी टीम द्वारा कि गई थी! सबसे प्रथम एटीएम का उद्घघाटन 27 जून 1967 को इंग्लैंड के उत्तरी लंदन के एनफील्ड में बार्कलेज़ बैंक की एक ब्रांच में किया गया था और सबसे प्रथम एटीएम का प्रचारक एवं कैस निकालने वाला व्यक्ति कॉमेडी अभिनेता रेग वर्नी थे! भारत की बात किया जाए तो भारत में सर्व प्रथम 1987 में मुंबई के एचएसबीसी बैंक ने अपने ही ब्रांच में एटीएम मशीन लगाया था!



एटीएम मशीन कितने प्रकार के होते हैं?


एटीएम के प्रकार की बात किया जाए तो कोई भी एक छोटी सी डिवाइस जैसे की Pos Machine (स्वैप मशीन) जिसके द्वारा कैस ट्रांजेक्शन संभव है वह एटीएम मशीन ही कहलाते है लेकिन भारतीय बैंको द्वारा जो एटीएम मशीन लगवाये जाते है चलिए उनके संदर्भ में जानते है!


  • व्हाइट लेबल एटीएम (White Label Atm)
  • ब्राउन लेबल एटीएम (Brown Label Atm)
  • ग्रीन लेबल एटीएम (Green Label Atm)
  • ऑरेंज लेबल एटीएम (Orange Label Atm)
  • एल्लो लेबल एटीएम (Yellow Label Atm)
  • पिंक लेबल एटीएम (Pink Label Atm)
  • बायोमेट्रिक एटीएम (Biometric Atm)
  • माइक्रो एटीएम (Micro Atm)
  • ऑन साईड एटीएम (On Side Atm)
  • ऑफ साईड एटीएम (Off Side Atm)


बैंक का अपना एटीएम- यह एटीएम मशीन बैंक द्वारा खरीदे और संचालित किए जाते हैं इस एटीएम पर बैंक का लोगो (चिन्ह) लगा होता है। बैंको द्वारा दी जाने वाली इस तरह से एटीएम सेवा प्रदान करने का सबसे महंगा तरीका होता है!



ब्राउन लेबल एटीएम- इस एटीएम पर बैंक का लोगो (चिन्ह) लगा होता है लेकिन यह एटीएम किसी अन्य कंपनी के द्वारा लगाये जाते हैं बैंक केवल नकद मुद्रा और सर्वर कनेक्टिविटी का काम संभालता है!



व्हाइट लेबल एटीएम- यह एटीएम मशीन किसी अन्य कंपनी द्वारा खरीदे और संचालित किए जाते हैं एवं सभी बैंको के ग्राहको को सेवा प्रदान कराता है इस एटीएम मशीन पर बैंक के बजाए कंपनी का लोगो (चिन्ह) लगा होता है।


ग्रीन लेबल एटीएम- गांवो के अंदर सहकारी समिति वाले एटीएम देखे होगें इस प्रकार के एटीएम के द्वारा कृषि से संबंधीत लेनदेन किये जाते है जिसे ग्रीन लेबल एटीएम कहा जाता है!


ऑरेंज लेबल एटीएम- बैंको द्वारा इस प्रकार के एटीएम शेयर से संबंधित यानि की आप शेयर मार्केट यां स्टॉक मार्केट से जुड़ी लेनदेन इस एटीएम से कर सकते है!


एल्लो लेबल एटीएम- ई-कॉमर्स से जुड़े लेनदेन के लिए इस्तेमाल किए जाने वाला एटीएम को एल्लो लेबल एटीएम कहा जाता है।


पिंक लेबल एटीएम- इस प्रकार के एटीएम खासकर महिलाओ के लिए आराम से लेन-देन करने हेतू होता है जिसे एल्लो लेबल एटीएम नाम दिया गया है!


बायोमेट्रिक एटीएम- अपना पहचान प्रमाणित अंगूठा लगाने के उपरांत जिस डिवाइस के द्वारा ट्रांजेक्शन करते है उसे बायोमेट्रिक एटीएम कहा जाता है!


माइक्रो एटीएम- होटल, रेस्टोरेंट पेट्रोल पंप इत्यादि जगहो पर जिस Pos Machine (स्वैप मशीन) मे डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड से स्वैप करके पेमेंट किया जाता है उस डिवाइस को माइक्रो एटीएम कहा जाता है!



जगह के आधार पर एटीएम के प्रकार


ऑन साईड एटीएम- आपने देखा होगा कुछ एटीएम मशीन बैंक ब्रांच के अंदर ही मौजूद होते है इस एटीएम के लिए बैंक को ज्यादा खर्च उठाना नही परता बैंक ब्रांच के अंदर मौजूद एटीएम को ऑन साइड एटीएम कहा जाता है।


ऑफ साईड एटीएम- जो एटीएम बैंक ब्रांच से दूर लगाया जाता है वह ऑफ साईड एटीएम कहलाता है इस प्रकार के एटीएम लगवाने और संचालन करने मे बैंक को कुछ ज्यादा ही खर्च उठाना परता है!

Post a Comment

Previous Post Next Post